Home Top News Delhi Police Files 3000 Page Charge Sheet Files In Sunanda Pushkar Death Case

ग्वालियरः ट्रेन में लगी आग में 33 डिप्टी कलेक्टर ट्रेनिंग करके लौट रहे थे, यात्री सुरक्षित

दिल्ली: लैंडफिल साइट्स को लेकर NGT ने सुनवाई जुलाई तक टाली

ओडिशा: ब्रह्मोस मिसाइल का सफलता परीक्षण किया गया

J-K: अरनिया में गोलीबारी बंद, इलाके में यातायात बहाल

उन्नाव रेप केस: 30 मई को होगी मामले की अगली सुनवाई

सुनंदा पुष्कर केस: 3000 पेज की चार्जशीट पेश, शशि थरूर संदिग्ध आरोपी

Home | Last Updated : May 14, 2018 05:34 PM IST

Delhi Police Files 3000 Page Charge sheet Files in Sunanda Pushkar Death Case


दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

सुनंदा पुष्कर केस में करीब चार साल बाद दिल्ली पुलिस ने पटियाला हाउस कोर्ट में चार्जशीट पेश की है। पुलिस ने इस केस में कांग्रेस नेता शशि थरूर को संदिग्ध आरोपी माना है। वह इस चार्जशीट में अकेले आरोपी हैं। पुलिस ने कोर्ट में 3000 पेज की चार्जशीट पेश की है। आइपीसी की धारा 306 और 498A के तहत चार्जशीट पेश की गई है।

 

जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस नेता शशि थरूर की मुश्किलें अब बढ़ सकती हैं। दिल्ली पुलिस द्वारा दाखिल चार्जशीट में उनको संदिग्ध आरोपी माना गया है। पटियाला हाउस कोर्ट 24 मई को इस चार्जशीट पर संज्ञान लेगा। इसी दिन कोर्ट शशि थरूर को समन भी कर सकता है। वहीं, इस चार्जशीट को शशी थरूर ने अकल्पनीय बताया है।

बताते चलें कि 17 जनवरी, 2014 की रात दिल्ली के एक 5 स्टार होटल के कमरे में कांग्रेस नेता और सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर (51) मृत मिली थीं। कथित तौर पर इससे एक दिन पहले सुनंदा और पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार के बीच ट्विटर पर बहस हुई थी। यह बहस शशि थरूर के साथ मेहर के कथित “अफेयर” को लेकर हुई थी।

 

सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में शशि थरूर सहित कई व्यक्तियों से पूछताछ की जा चुकी है। दिल्ली पुलिस थरूर के घरेलू सहायक नारायण सिंह, चालक बजरंगी और दोस्त संजय दीवान का पॉलीग्राफ टेस्ट भी करवा चुकी है। यहां तक कि विसरा को दोबारा जांच के लिए एफबीआइ लैब भेजा गया, फिर भी कुछ पता नहीं लग पाया था।

29 सितंबर 2014 को एम्स के मेडिकल बोर्ड ने सुनंदा के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट दिल्ली पुलिस को सौंपी थी। इस रिपोर्ट में कहा गया था कि सुनंदा की मौत जहर से हुई है। बोर्ड ने कहा था कि कई ऐसे रसायन हैं जो पेट में जाने या खून में मिलने के बाद जहर बन जाते हैं। लिहाजा, उनके वास्तविक रूप के बारे में पता लगाना बहुत मुश्किल होता है।

 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद 1 जनवरी 2015 को सरोजनी नगर थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया गया था। इसके बाद सुनंदा के विसरा को जांच के लिए एफबीआइ लैब अमेरिका भेज दिया गया था। वहां की लैब में भी जहर के बारे में पता नहीं लग सका था। पुलिस ने फोरेंसिक साइकोलॉजी एनालिसिस टेस्ट भी कराया था।



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...