FIR Registered Against Singer Abhijeet Bhattacharya For Misbehavior From Woman

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

रीटेल सेक्‍टर में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी वॉलमार्ट और इंडिया में सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के बीच डील फाइनल हो गई है।

 

फ्लिपकार्ट की शेयरहोल्‍डर कंपनी जापान के सॉफ्ट बैंक ग्रुप ने इसे कंफर्म किया है। सॉफ्ट बैंक ग्रुप के सीईओ मासायोशी सोन के मुताबिक जापान के समयानुसार मंगलवार रात को डील फाइनल कर दी गई। ये डील कितने में हुई फिलहाल इसकी पुष्टि नहीं हुई है लेकिन जानकारी के मुताबिक वॉलमार्ट 15 बिलियन डॉलर (99,000 करोड़ रुपये) में फ्लिपकार्ट की 60-80% हिस्सेदारी खरीद सकती है। इस डील के लिए फ्लिपकार्ट की वैल्युएशन 20 बिलियन डॉलर आंकी गई है। डील से दोनों कंपनियों को फायदा होगा। पिछले साल फ्लिपकार्ट की वैल्यू 12 बिलियन डॉलर आंकी गई थी।

डील का पूरा Structure

इस डील से पहले फ्लि‍पकार्ट ने 2300 करोड़ रुपए के शेयर बायबैक किए हैं। फ्लिपकार्ट ने अपनी सिंगापुर स्‍थि‍त पेरेंट कंपनी में 35 करोड़ डॉलर (करीब 2300 करोड़ रुपए) के शेयर वापस खरीद लि‍ए हैं। फ्लिपकार्ट ने खुद को प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बनाने के लिए ऐसा किया है। सिंगापुर में फ्लिपकार्ट पब्लिक कंपनी के रूप में रजिस्टर्ड है और प्राइवेट लिमिटेड होने के लिए शेयर होल्डर की संख्या घटाकर 50 से कम करना जरूरी है। शेयर बायबैक से पहले फ्लिपकार्ट के शेयरहोल्डर्स की संख्या 145 थी। वॉलमार्ट से बेहतर ऑफर हासिल करने के लिए फ्लिपकार्ट ने शेयरधारकों की संख्या घटाई है। डील के लिए वॉलमार्ट मौजूदा शेयरधारकों से उनका हिस्सा खरीदेगी, साथ ही नया निवेश भी करेगी।

 

सॉफ्टबैंक ने फ्लिपकार्ट में 2.5 बिलियन डॉलर का निवेश किया था। इससे पहले सॉफ्टबैंक ने स्नेपडील और फ्लिपकार्ट के मर्जर पर जोर दिया था लेकिन स्नेपडील ने सौदा करने से इनकार कर दिया।

वॉलमार्ट का फायदा

इस डील के जरिए वॉलमार्ट को भारत में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म मिल जाएगा। ईकॉमर्स- बाजार में फ्लिपकार्ट की करीब 43% से ज्यादा हिस्सेदारी है। भारत में कंपनी को अमेजन से टक्कर मिलेगी, क्योंकि बाजार में इसकी 38% मौजूदगी है।

 

चीन के बाजार में भी दोनों कंपनियों के बीच सीधी टक्कर है। डील होने पर फ्लिपकार्ट को एक बड़ी रकम मिलेगी, साथ ही रीटेल कारोबार का वॉलमार्ट का लंबा अनुभव भी काम आएगा। नई टेक्नोलॉजी का सपोर्ट भी मिलेगा जिससे फ्लिपकार्ट, अमेजन को चुनौती दे सकेगी। बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच की रिपोर्ट के मुताबिक अगले साल तक भारत में फ्लिपकार्ट का मार्केट शेयर 44% होने का अनुमान है। दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन, फ्लिपकार्ट की रेस से बाहर हो चुकी है। चीन में पिछड़ने के बाद वॉलमार्ट और अमेजन की भारत के बाजार पर है नजर।

अमेजन ने भी किया था ऑफर

सूत्रों के मुताबिक अमेजन ने भी 60% शेयर खरीदने का ऑफर दिया था, लेकिन फ्लिपकार्ट ने वॉलमार्ट को तवज्जो दी। बताया जा रहा है कि अमेजन ने डील के लिए फ्लिपकार्ट की वैल्यू 22 बिलियन डॉलर (1.45 लाख करोड़ रुपए) आंकी थी।

 

Amazon का पत्‍ता क्‍यों कटा

बताया जा रहा है कि फ्लिपकार्ट बोर्ड ने डील के लिए वॉलमार्ट को प्राथमिकता दी। इसकी वजह तो साफ नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि फ्लिपकार्ट नहीं चाहती कि कंपीटीटर कंपनी को उसके प्लेटफॉर्म का फायदा मिले। उधर वॉलमार्ट भी भारत में अमेजन से आगे निकलना चाहती है इसलिए हो सकता है अमेजन के ऑफर के बाद वॉलमार्ट ने डील हासिल करने के लिए अतिरिक्त प्रयास किए हों। भारत में अमेजन और फ्लिपकार्ट सबसे करीबी प्रतिद्वंदी हैं।

भारत में क्‍यों है रुचि

भारत में के ई-कॉमर्स बाजार में फ्लिपकार्ट और अमेजन बड़े खिलाड़ी हैं। भारतीय ई-कॉमर्स मार्केट काफी तेजी से बढ़ रहा है। यही वजह है कि दुनिया की बड़ी कंपनियों को भारत में काफी संभावनाएं दिख रही हैं। भारतीय बाजार में अमेजन और फ्लिपकार्ट के बीच तगड़ी प्रतिस्पर्धा है। मार्केटिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर पर दोनों ने बड़ी रकम खर्च की है।

 

वॉलमार्ट और अमेजन ने भारत में एक दूसरे को पछाड़ने के लिए भी फ्लिपकार्ट पर दांव लगाया क्योंकि दोनों को चीन में अपने कंपीटीशन का नुकसान उठाना पड़ा था और दोनों ही दिग्गज वहां अलीबाबा से पिछड़ गए। अमेजन भारत में अपने कारोबार विस्तार के लिए 5 बिलियन डॉलर का निवेश करेगी। हाल ही में अमेजन के सीएफओ ने निवेशकों से कहा था कि कंपनी भारत में निवेश जारी रखेगी क्योंकि यहां ग्रोथ की काफी संभावना है। हालांकि 2018 की पहली तिमाही में अमेजन को इंटरनेशनल ऑपरेशंस में 622 मिलियन डॉलर (4.10 लाख करोड़ रुपए) का घाटा झेलना पड़ा है। फैशन रीटेलर मिंत्रा और जबोंग भी फ्लिपकार्ट की कंपनियां हैं। इन दोनों का ऑनलाइन रीटेल फैशन में 70% बाजार पर कब्जा है।

साइड होंगे सचिन बंसल

जानकारी के मुताबिक फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर सचिन बंसल अपने हिस्से से 5.55% शेयर बेचकर पूरी तरह बाहर हो जाएंगे। बताया जा रहा है कि सचिन बंसल वॉलमार्ट डील के बाद की स्ट्रेटेजी और प्रस्तावित स्ट्रक्चर से सहमत नहीं हैं इसलिए पूरी तरह कंपनी छोड़ने का मन बना लिया। वॉलमार्ट के डील के बाद बिन्नी बंसल नए चेयरमैन और ग्रुप सीईओ हो सकते हैं। फिलहाल फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति हैं और वह इसी भूमिका में बने रहेंगे। वॉलमार्ट 10 मेंबर वाले बोर्ड में तीन डायरेक्टर और सीएफओ नियुक्त कर सकती है। सचिन ने बिन्नी बंसल के साथ मिलकर 11 साल पहले 2007 में फ्लिपकार्ट को खड़ा किया था। इससे पहले दोनों अमेजन के एंप्लॉयी थे।

 

भारत में डील का विरोध

भारतीय ट्रेडर्स का कहना है कि वॉलमार्ट रीटेल एफडीआई से देश में एंट्री नहीं कर पाई तो वह ई-कॉमर्स के जरिए रास्ता तलाश रही है। कन्‍फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT)ने इस मामले में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु से दखल की मांग की है। सीएआईटी का कहना है कि इस तरह की डील से पहले 75% ऑनलाइन विक्रताओं की मंजूरी जरूरी होनी चाहिए। देश में ई-कॉमर्स बिजनेस के लिए जल्द पॉलिसी तैयार की जानी चाहिए। सीएआईटी के सेक्रेटरी जनरल प्रवीण खंडेलवाल का कहना है कि ऐसी कंपनियां दुनिया में कहीं से भी सामान लाएंगी और देश को डंपिंग ग्राउंड बना देंगी। भारतीय रीटेलर्स कंपीटीशन में पिछड़ जाएंगे और उनका धंधा चौपट हो जाएगा। देश में फिलहार करीब 7 करोड़ रीटेलर्स हैं, जिनमें से लगभग 3 करोड़ रीटेलर्स को इस डील से सीधे तौर पर नुकसान होगा।

स्वदेशी जागरण मंच भी इस डील के खिलाफ है। उसका कहना है कि इस सौदे से ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों बाजारों पर वॉलमार्ट का कब्जा हो जाएगा और छोटे कारोबारियों को नुकासान उठाना पड़ेगा। ई-कॉमर्स सेक्टर में एफडीआई की इजाजत नहीं है ऐसे में ये डील अवैध होगी।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll