Home Top News Dawood Ibrahim Threaten Shiya Board Chief Wasim Rizwi

प्रिंस विलियम और केट मिडलटन बने माता पिता, बेटे का जन्म

हमें उम्मीद है आने वाले समय में कुछ नक्सली सरेंडर करेंगे: महाराष्ट्र DGP

दिल्ली: मानसरोवर पार्क के झुग्गी-बस्ती इलाके में लगी आग

कांग्रेस का लक्ष्य है "हम तो डूबेंगे सनम तुम्हें भी साथ ले डूबेंगे": मीनाक्षी लेखी

कावेरी जल विवाद: विपक्षी पार्टियों का मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रदर्शन

शिया बोर्ड के चीफ को दाऊद का धमकी भरा फोन!

Home | Last Updated : Jan 14, 2018 10:36 AM IST
   
Dawood Ibrahim Threaten Shiya Board Chief Wasim Rizwi

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा। इस बार उसने शिया सेंट्रल बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी को धमकी दी है। गौरतलब है कि वसीम रिजवी को यह धमकी मदरसा शिक्षा की आलोचना करने को लेकर दी गई है।

 

रिजवी ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने दाऊद इब्राहिम के खिलाफ नामजद रिपोर्ट लिखवाई है। रिजवी के मुताबिक, उन्हें शनिवार देर रात फोन पर यह धमकी मिली। फोन करने वाले अज्ञात व्यक्ति ने खुद को “डी कंपनी” का आदमी बताया और “भाई” के नाम से धमकी दी।

धमकाने वाले शख्स ने खुद को भाई का आदमी बताते हुए वसीम रिजवी से मौलानाओं से बिना शर्त माफी मांगने को कहा है। माफी नहीं मांगने पर परिवार समेत अंजाम भुगतने की धमकी दी है। गौरतलब है कि मदरसा शिक्षा की आलोचना करने के बाद वसीम रिजवी मुस्लिमों के एक वर्ग के निशाने पर आ गए हैं।

 

वसीम रिजवी ने मदरसा शिक्षा के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बाकायदा चिट्ठी लिखी थी। इसके बाद जमात-ए-उलेमा-ए-हिंद ने वसीम रिजवी पर 20 करोड़ का मानहानि का मुकदमा ठोक दिया। साथ ही उनके सामने माफी मांगने की शर्त भी रखी।

मदरसों के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने के विरोध में जमात-ए-उलेमा-ए-हिंद ने वसीम रिजवी को लीगल नोटिस भेजा और 20 करोड़ की मानहानि का दावा किया है। जमात-ए-उलेमा-ए-हिंद ने वसीम रिजवी से देश से बिना शर्त माफी मांगने को भी कहा है।

 

जमात-ए-उलेमा-ए-हिंद का कहना है कि वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री को जो चिट्ठी लिखी है, उसमें बेहद आपत्तिजनक बातें लिखी गई हैं और इस चिट्ठी की वजह से मदरसों का और मुसलमानों की छवि को भारी नुकसान हुआ है।

यह लिखा था चिट्ठी में:

  • इस चिट्ठी में लिखा गया है कि मदरसे सिविल सर्वेंट से ज्यादा आतंकवादी पैदा कर रहे हैं।

  • हमारे मदरसे इंजीनियर और डॉक्टर बनाने में फेल है।

  • हमारे मदरसे युवाओं को कट्टरपंथ की ओर धकेल रहे हैं।

जमात-ए-उलेमा-ए-हिंद का कहना है कि इस चिट्ठी की वजह से मदरसों में पढ़ने वाले लाखों बच्चों के दिमाग पर बुरा असर पड़ रहा है और लोग शक की निगाहों से देखने लगे हैं। वसीम रिजवी ने मदरसा शिक्षा की जगह सभी मदरसों को सीबीएसई या आईसीएसई स्कूलों से संबद्ध करने की मांग भी की है।


"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...



Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


Most read news


Loading...