Home Top News Congress Strategy Of Getting Lingayat Community Vote Fails In Karnataka

बीजेपी ने चुनाव लड़ने के लिए करोड़ों रुपये दिए- कांग्रेस

हिमाचल के किन्नौर में भूकंप के झटके, तीव्रता 4.1

कुमारस्वामी से मुलाकात के बाद तय होगी आगे की रणनीतिः गुलाम नबी आजाद

गहलोत और वेणुगोपाल ने राहुल को कर्नाटक के ताजा हालात की जानकारी दी

कर्नाटक चुनाव में भाजपा ने 6000 करोड़ रुपये खर्च किए- आनंद शर्मा

कर्नाटक चुनाव में कांग्रेस का लिंगायत कार्ड भी हुआ फेल

Home | Last Updated : May 15, 2018 02:46 PM IST

Congress Strategy of Getting Lingayat community Vote Fails in Karnataka


दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे बीजेपी, कांग्रेस और जेडीएस के लिए चौंकाने वाले हैं। वजह है लिंगायत समुदाय। जी हां, कर्नाटक में कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार ने चुनाव से पहले लिंगायत कार्ड खेलते हुए प्रदेश में इस समुदाय को अल्‍पसंख्‍यक का दर्जा देने के लिए प्रस्‍ताव पारित किया था। कांग्रेस के इस दांव से सियासी गलियारों में माना जा रहा था कि लिंगायत समुदाय कांग्रेस की ओर बढ़ चलेगा और चुनावों में उसे ही वोट देगा। बीजेपी को इससे बड़ा नुकसान होने का अंदेशा था, लेकिन आज (15 मई) आए चुनाव नतीजों ने सभी को चौंका दिया। नतीजों से साफ हो रहा है कि लिंगायत समुदाय का वोट बड़ी संख्‍या में बीजेपी के पाले में गया। लिंगायत समुदाय के प्रभाव वाले क्षेत्रों की कुल विधानसभा सीटों में से 44 सीटों पर बीजेपी आगे चल रही है। विश्‍लेषकों का मानना है कि लिंगायत समुदाय को अपना फायदा बीजेपी में गए बीएस येदियुरप्‍पा में ही दिखा। इसलिए येदियुरप्‍पा का फायदा बीजेपी को मिला।

बीजेपी ने चुनाव से पहले लिंगायत समुदाय को लेकर कांग्रेस की प्रदेश सरकार की ओर से पास प्रस्‍ताव का विरोध किया था। बीजेपी का कहना था कि इससे समाज में बंटवारा होगा और सामाजिक-आर्थिक स्‍तर पर इसका असर देखने को मिलेगा। कुछ का तो यही मानना था कि कांग्रेस ने ऐसा सिर्फ चुनावों में जीत हासिल करने के लिए किया है, लेकिन कांग्रेस का ऐसा मानना गलत ही साबित हुआ। कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों में से 100 सीटों पर लिंगायत समुदाय का प्रभाव है। वहीं प्रदेश की कुल जनसंख्‍या में लिंगायत समुदाय की हिस्‍सेदारी करीब 17 फीसदी है। माना जा रहा है कि कांग्रेस का ऐसा मानना था कि धार्मिक कार्ड के रूप में लिंगायत कार्ड खेला था। पार्टी का यह भी मानना था कि इससे बीजेपी का वोट बेस भी कट जाएगा और मतदाता बीएस येदियुरप्‍पा से दूर होंगे। लिंगायत समुदाय के नेता येदियुरप्‍पा बीजेपी में हैं।

 



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...