Akshay Kumar and Priyadarshan Donated to Save Flood Affected People in Kerala

दि राइजिंग न्यूज़

बंगलुरु।

 

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे तो आ गए हैं, लेकिन अभी भी सरकार किसकी बनेगी यह साफ नहीं हुआ है। सरकार बनाने को लेकर बीजेपी, कांग्रेस और जेडीएस लगातार मोर्चेबंदी कर रही हैं। बीजेपी कह रही है कि उनके संपर्क में जेडीएस-कांग्रेस के विधायक हैं, तो वहीं कांग्रेस अपने विधायकों को रिजॉर्ट में ले जा सकती है। बेंगलुरु में बुधवार को बैठकों का दौर भी जारी है, कांग्रेस-जेडीएस-बीजेपी अपने विधायकों के साथ बैठक करने में लगे हुए हैं।

बड़े अपडेट्स -

  • कर्नाटक में कांग्रेस की बैठक शुरू हो गई है, करीब 43 विधायक पहुंच गए हैं। बाकी विधायकों का आना अभी बाकी है।

  • जेडीएस के विधायक श्रवण का कहना है कि करीब हमारे 4-5 विधायकों को संपर्क किया गया है। लेकिन हम सब एक हैं, 80 फीसदी विधायक बैठक में आ गए हैं।

  • कांग्रेस ने इग्लटन रिसॉर्ट में अपने विधायकों के लिए कमरे बुक करवाए हैं। बताया जा रहा है कि 120 कमरे बुक कराए गए हैं।

  • जेडीएस के करीब 12 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं, ये सभी विधायक कांग्रेस के साथ गठबंधन से नाराज़ हैं।

  • कांग्रेस नेता मधुयक्शी गौड़ ने कहा कि हमारे पास सभी नंबर हैं, सभी विधायक हमारे टच में हैं। उन्होंने कहा कि शंकर जो येदियुरप्पा से मिलने गए थे, वो भी वापस आए थे। हम सभी विधायकों के साइन के साथ गवर्नर से मिलने जाएंगे। उन्होंने कहा कि आनंद सिंह, नागेंद्र भी अब हमारे टच में हैं।

  • कांग्रेस के आनंद सिंह, नागेंद्र, एमवाई पाटिल पिछली रात से अपनी पार्टी के टच में नहीं हैं।

  • देवानागरे नॉर्थ के विधायक शिवशंकरप्पा कांग्रेस दफ्तर छोड़कर आराम करने गए हैं, वह बाद में वापस आएंगे। वह सुबह करीब 300 किमी. कार ड्राइव कर वापस लौटे हैं।

बीजेपी की भी कोशिशें तेज

दूसरी ओर बुधवार को 11 बजे बीजेपी विधायक दल की बैठक होने वाली है, जिसमें मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा को पार्टी विधायक दल का नेता चुना जाएगा। इसके बाद येदियुरप्पा से राज्यपाल से आधिकारिक रूप से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

 

बीजेपी विधायक दल की बैठक में बीजेपी के वरिष्ठ नेता भी शामिल होंगे। इस बीच नवनिर्वाचित निर्दलीय विधायक आर. शंकर ने बीजेपी नेता ईश्वरप्पा के साथ येदियुरप्पा से मुलाकात की है। ईश्वरप्पा ने दावा किया कि बीजेपी के पास जेडीएस और कांग्रेस के कुछ विधायकों का समर्थन है।

बीजेपी विधायक बसवाराज बोम्मई ने कहा कि राजनीति संभावनाओं का खेल है। हम देखेंगे कि पूरी प्रक्रिया कैसे आगे बढ़ती है, लेकिन राज्यपाल को फैसला करना है कि क्या सही और क्या नहीं। कांग्रेस की बैठक के बाद 11 बजे जेडीएस ने भी वसंतनगर में अपने विधायक दल की बैठक बुलाई है।

 

हालांकि इन सबके बीच सभी की राज्यपाल पर टिकी हैं कि सरकार बनाने के लिए वे पहले किसको निमंत्रित करते हैं। राज्यपाल के पास अभी दो विकल्प हैं, पहला ये कि वे सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को पहले बुलाएं और बहुमत साबित करने के लिए कहें या फिर जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन को सरकार बनाने के लिए न्यौता दें, जोकि जादुई आंकड़े का दावा कर रहे हैं।

संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप का कहना है कि ये पूरी तरह राज्यपाल पर निर्भर है कि वे सरकार बनाने के लिए पहले किसे आमंत्रित करते हैं। सबसे बड़ी पार्टी को, या गठबंधन सरकार को।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll