Film on Pulwama Attack in Bollywood

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर चीन ने एक बार फिर अडंगा लगा दिया है। फैसले से कुछ घंटे पहले चीन ने वीटो का इस्तेमाल कर मसूद को बचा लिया। इस तरह भारत समेत फ्रांस, अमेरिका और ब्रिटेन की मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने की कोशिशों को झटका लगा है। चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कहा कि हम बिना सबूतों के कार्रवाई के खिलाफ हैं और हमें जांच के लिए और वक्त चाहिए। ये दस साल में चौथी बार है जब चीन ने यूएनएससी में मसूद अजहर को बचाया है। सुरक्षा परिषद के 15 सदस्य देशों के पास आपत्ति दर्ज कराने के लिए 13 मार्च तक का वक्त था।

 

मियाद खत्म होने के ऐन पहले चीन ने प्रस्ताव को तकनीकी आधार पर होल्ड करने की सूचना परिषद को दी। होल्ड की मियाद तीन महीने तक है, चीन अपने तकनीकी होल्ड को दो बार तीन-तीन महीने के लिए आगे भी बढ़वा सकता है, यानी 9 महीने का वक्त उसके पास है। 9 महीने बाद अगर चीन चाहे तो सुरक्षा परिषद का स्थाई सदस्य होने के नाते वीटो अधिकार का इस्तेमाल कर प्रस्ताव को गिरा सकता है।

अमेरिका, फ्रांस ब्रिटेन के अलावा रूस और चीन सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य हैं, इन पांचों देशों को वीटो का अधिकार है। अगर कोई एक सदस्य भी वीटो का इस्तेमाल करता है तो प्रस्ताव खारिज हो जाता है। मौजूदा प्रस्ताव के विचाराधीन रहने तक मसूद अजहर को लेकर कोई नया प्रस्ताव सुरक्षा परिषद में नहीं आ सकता। साफ है कि चीन ने एक बार फिर मसूद को कम से नौ महीने के लिए ग्लोबल आतंकियों की फेहरिस्त में शामिल किए जाने से बचा लिया है।

 

हम निराश हैं लेकिन प्रयास जारी हैं: भारत सरकार

भारत सरकार ने कहा, ''एक देश की वजह से जो नतीजा सामने है वो निराश करने वाला है लेकिन मसूद अजहर के खिलाफ हमारी मुहिम जारी रहेगी। हम निराश हैं लेकिन हम सभी उपलब्ध विकल्पों पर काम करते रहेंगे, ताकि ये तय किया जा सके कि भारतीय नागरिकों पर हुए हमलों में शामिल आतंकवादियों को न्याय के कठघरे में खड़ा किया जाए।'' विदेश मंत्रालय ने कहा, ''हम प्रस्ताव लाने वाले सदस्य राष्ट्रों के प्रयास के लिए आभारी हैं। साथ में सुरक्षा परिषद के अन्य सदस्यों और गैर सदस्यों के भी आभारी हैं जिन्होंने इस कोशिश में साथ दिया। कमेटी अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर कोई निर्णय नहीं कर सकी क्योंकि एक सदस्य देश ने प्रस्ताव रोक दिया।''

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement