Home Top News Bhim Army Sabotage In Hospital In Gujarat

सरकार का उद्देश्य एक है, बड़े-बड़े दावे और जुमले करना: अभिषेक मनु सिंघवी

AAP विधायकों ने EC के फैसले को चुनौती वाली याचिका हाई कोर्ट से वापस ली

ये देश ऐसा नहीं कि कोई सिर काटने की बात करे और कानून मूक बना रहे: आर माधवन

10 अप्रैल को भारत 16वीं अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा मंच बैठक का आयोजन करेगा

ज्यूरिख पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, कुछ देर में दावोस के लिए होंगे रवाना

गुजरात: भीम सेना ने की अस्पताल में तोड़फोड़, यह थी वजह

Home | 07-Jan-2018 10:45:03 | Posted by - Admin
   
Bhim Army Sabotage in Hospital in Gujarat

दि राइजिंग न्‍यूज

अहमदाबाद।

 

अहमदाबाद में एक दलित रेजिडेंट डॉक्टर (मेडिकल छात्र) द्वारा आत्महत्या के प्रयास के बाद भीम सेना ने वहां के अस्पताल में जमकर तोड़फोड़ की। भीम सेना के सदस्यों ने कॉलेज के डायरेक्टर हंसा गोस्वामी का विरोध भी किया।

 

दरअसल, अहमदाबाद के सिविल अस्पताल (बीजे मेडिकल कोलेज) में सर्जरी विभाग के थर्ड ईयर में पढ़ने वाले दलित रेजिडेंट डॉक्टर ने हॉस्टल के रूम में नींद की गोली खाकर आत्महत्या की कोशिश की। इस घटना के बाद भीम सेना के सदस्य वहां आ पहुंचे और सिविल अस्पताल में जमकर तोड़फोड़ की।

 

भीम सेना ने मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर हंसा गोस्वामी के दफ्तर में भी तोड़फोड़ की। आत्महत्या की कोशिश करने वाले डॉक्टर ने कॉलेज पर आरोप लगाया कि उसे एक साल के दौरान एक भी सर्जरी नहीं करने दिया गया। साथ ही ऑपरेशन थियेटर में भी उसे वॉचमैन की तरह खड़ा रखा जाता था।

 

पुलिस को की गई शिकायत में पीड़ित डॉक्टर एम मरीराज ने कहा है कि यहां पढ़ाई करने वाले दूसरे डॉक्टर उसके लिए जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हैं। जब इस बात की जानकारी वहां के एचओडी को दी गई तो उन्होंने भी किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की।

 

पीड़ित डॉक्टर ने आत्महत्या का कदम इसलिए उठाया, क्योंकि उसके डिपार्टमेंट के डायरेक्टर ने उसे 15 दिन तक चाय लाने को कहा, लेकिन जब उसने मना किया तो उसे गालियां दीं। इसके बाद उसने इस बात की जानकारी राज्य के एसटी-एसटी आयोग को भी दे दी और नींद की गोली खाकर आत्महत्या का प्रयास किया।

 

वहीं, सिविल अस्पताल का कहना है कि रेजिडेंन्शियल डॉक्टर को कभी स्वतंत्र रूप से सर्जरी की इजाजत नहीं दी जाती है। हमें पता चला है कि हॉस्टल में इस छात्र का झगड़ा किसी और से हुआ था। इधर, दलित छात्र के आत्महत्या के प्रयास से अचानक जागी विजय रूपाणी सरकार के सामाजिक न्याय विभाग के मंत्री ईश्वर पटेल ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news