Home Top News AMU Scholar Joined Hijbul Terrorists Community Says Reports

चेन्नई: पत्रकारों ने बीजेपी कार्यालय के बाहर किया विरोध प्रदर्शन

मुंबई: ब्रीच कैंडी अस्पताल के पास एक दुकान में लगी आग

कर्नाटक के गृहमंत्री रामालिंगा रेड्डी ने किया नामांकन दाखिल

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने हथियारों के साथ 3 लोगों को किया गिरफ्तार

11.71 अंक गिरकर 34415 पर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी 10564 पर बंद

हिज्बुल मुजाहिद्दीन से जुड़ा AMU का कश्मीरी स्कॉलर!

Home | 08-Jan-2018 10:30:58 | Posted by - Admin
   
AMU Scholar Joined Hijbul Terrorists Community Says reports

दि राइजिंग न्यूज़

कुपवाड़ा।

 

भारतीय सेना घाटी में लगातार आतंक के खात्मे के लिए काम कर रही है। इसके बावजूद रोजाना आतंकी संगठनों से कुछ नए लोगों के जुड़ने की बात सामने आ जाती है। पीएचडी रिसर्च स्कोलर मनन वानी ने अपनी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर डाली है। मनन अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रहा था। वानी के हाथ में एके-47 है, कहा जा रहा है कि वानी ने हिज्बुल मुजाहिद्दीन ज्वाइन कर लिया है।

 

मनन वानी कुपवाड़ा जिले के लोलाब का रहने वाला है। वह अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जियोलॉजी में पीएचडी कर रहा था। 26 साल का वानी तीन दिन पहले घर आने वाला था। लेकिन उसने घर पर कोई खबर नहीं दी। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो वानी पिछले पांच साल से एएमयू में रह रहा था, वहां उसने एमफिल की डिग्री भी ली। रविवार को ही वानी के परिवार की तरफ से गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई गई थी, जिसके बाद पुलिस ने तलाश शुरू की।

जम्मू कश्मीर पुलिस ने इस मामले पर कहा है कि अभी व्यक्ति की आतंकी बनने की पुष्टि नहीं की जा सकती है। जो तस्वीर वायरल हो रही है, वह फोटोशॉप भी हो सकती है। पुलिस ने कहा कि स्कॉलर 3 जनवरी से लापता था, उसकी आखिरी लोकेशन दिल्ली पता चल पाई है।

 

पहले एक फुटबॉलर हुआ था शामिल, मां की अपील के बाद लौटा

आपको बता दें कि अभी हाल ही में कश्मीर के ही एक कॉलेज छात्र और फुटबॉल खिलाड़ी माजिद अरशिद खान ने भी इसी तरह आतंकी संगठन ज्वाइन कर लिया था। माजिद खूंखार आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के साथ जुड़ा था। हालांकि, अपनी मां की अपील के बाद माजिद ने आतंकी संगठन को छोड़ दिया और घर वापसी आ गया था।

दोस्त के मारे जाने के बाद अपनाया था आतंक का रास्ता

माना जा रहा था कि एक मुठभेड़ में अपने किसी घनिष्ठ दोस्त के मारे जाने के बाद वह आतंकवाद की राह पर चल पड़ा था। वह दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में अपनी स्थानीय फुटबॉल टीम में गोलकीपर था।

 

पुलिस ने परिजनों पर बनाया था दबाव

पुलिस अरशिद खान की घर वापसी के लिए उस पर दबाव बनाने के लिए उसके दोस्तों और परिवार के सदस्यों के संपर्क में थी। उसने अपने माता-पिता और जम्मू कश्मीर पुलिस की अपील के बाद आत्मसमर्पण किया। उसके माता-पिता ने टेलीविजन और सोशल मीडिया पर जाकर उससे आत्मसमर्पण करने का आह्वान किया था।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news