Ayushman Khurrana Wants To Work in Kishore Kumar Biopic

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत और चीन को धमकी दी है। उन्होंने कहा है कि अगर अमेरिकी सामानों पर टैक्स कम नहीं किया गया तो वे भी उतना ही टैक्स लगाएंगे। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका दूसरे देशों से आयातित समानों पर बहुत कम टैक्स लगाता है, लेकिन दूसरे देश हमारे सामानों पर ज्यादा टैक्स लगाते हैं। ट्रंप ने धमकी भरे लहजे में कहा कि दूसरे देश टैक्स कम नहीं करेंगे तो हम भी जवाबी टैक्स लगाएंगे।

कई बार ट्रंप उठा चुके हैं मुद्दा

बीते कुछ समय में ट्रंप ने कई बार अमेरिका से आयातित महंगी मोटरसाइकिल हार्ले डेविडसन पर करीब 50 प्रतिशत शुल्क लगाने का मुद्दा उठाया है। उन्होंने बार-बार जोर दिया कि अमेरिका भारत से आयातित मोटरसाइकिल पर शून्य शुल्क लगाता है। ट्रंप ने कहा कि हम किसी न किसी समय जवाबी कर योजना अपनाएंगे। अगर चीन हम पर 25 प्रतिशत कर लगाता है या भारत 75 प्रतिशत शुल्क लगाता है, और हम उन पर कोई शुल्क नहीं लगाते। उन्होंने इस्पात पर 25 प्रतिशत तथा एल्युमीनियम पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया है।

 

निष्पक्ष व्यवहार न करने का लगाया आरोप

ट्रंप ने कहा कि अगर वे 50 प्रतिशत या 75 प्रतिशत या फिर 25 प्रतिशत कर लगाते हैं तो  हम भी उतना ही कर लगाएंगे। इसे जवाबी कर कहते हैं। इस तरह वे हम पर 50 प्रतिशत शुल्क लगाते हैं तो हम भी उन पर 50 प्रतिशत शुल्क लगाएंगे। उन्होंने कहा कि उनके प्रशासन के पहले साल में ही जवाबी कर का मंच तैयार हो गया था। ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी कंपनियों के साथ अन्य देश निष्पक्ष व्यवहार नहीं करते हैं।

ट्रेड वॉर की बढ़ी आशंका

ट्रंप के इस फैसले के बाद दुनियाभर में चिंता का माहौल पसर गया है। इससे ट्रेड वॉर की आशंका बढ़ गई है। चीन ने इसका पुरजोर विरोध किया है। चीन पहले ही कह चुका है कि ट्रेड वॉर कभी भी फायदेमंद नहीं होता। फ्रांस ने भी इसको लेकर नाराजगी जताई है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि ट्रेड वॉर का माहौल पैदा हो सकता है।

 

क्या है ट्रेड वॉर

ट्रेड वॉर अर्थात कारोबार की लड़ाई दो देशों के बीच होने वाले संरक्षणवाद का नतीजा होता है।  यह स्थ‍िति तब पैदा होती है, जब कोई देश किसी देश से आने वाले सामान पर टैरिफ ड्यूटी बढ़ाता है। इसके जवाब में सामने वाला देश भी इसी तरह ड्यूटी बढ़ाने लगता है। ज्यादातर समय पर दुनिया का कोई भी देश यह कदम तब उठाता है, जब वह अपनी घरेलू इंडस्ट्री और कंपनियों का संरक्षण करने के लिए कदम उठाता है।  इस ट्रेड वॉर का असर धीरे-धीरे पूरी दुनिया पर दिखने लगता है। इसकी वजह से वैश्व‍िक स्तर पर कारोबार को लेकर चिंता का माहौल तैयार हो जाता है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement