Sanjay Dutt invited Ranbir and Alia For Dinner

दि राइजिंग न्यूज़

मुंबई।

 

12 मार्च, 1993, दिन शुक्रवार... रोज़मर्रा की तरह मायानगरी मुंबई में आम जिंदगी दौड़ रही थी। दोपहर का समय था। लोग लंच की तैयारी में थे। दिन के 1:30 बज चुके थे। अचानक मुंबई स्टॉक एक्सचेंज में जोर धमाका हुआ। इस धमाके की गूंज दूर-दूर तक गई। हर तरफ अफरा-तफरी मच गई। इससे पहले कि हाहाकार के बीच लोग कुछ समझ पाते महज 2 घंटे 10 मिनट के भीतर मुंबई के अंदर 12 जगह धमाके हो गए। इनमें 257 लोगों की मौत हो गई, जबकि 700 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

 

मुंबई में आज के ही दिन हुए सीरियल ब्लास्ट के 25 साल पूरे हो चुके हैं, लेकिन इन धमाकों के जख्म आज भी मौजूद है। इसके कई गुनहगार आज भी देश से बाहर हैं। इसका साजिशकर्ता दाऊद इब्राहिम पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में मजे कर रहा है। भारतीय सुरक्षा एजेंसियां ने कई आरोपियों को पकड़ा। कुछ दोषियों को उम्रकैद की सजा हुई, कुछ को फांसी। कुछ आज भी कई सजा पाने की कतार में खड़े हैं। कुछ लोगों को बरी भी किया गया लेकिन एक उम्र जेल में काटने के बाद।

यह उस वक्त का सबसे बड़ा आतंकी हमला था। इसमें 27 करोड़ रुपये की संपत्ति नष्ट हुई थी। 4 नवंबर 1993 को 189 आरोपियों के खिलाफ चार्जर्शीट दायर की गई। इनमें से कुछ को बाद में अदालत ने बरी कर दिया। टाडा अदालत के न्यायाधीश ने 100 को दोषी ठहराया और 23 अभियुक्तों को बरी कर दिया। 100 अभियुक्तों में से 99 को सजा सुनाई गई थी। विशेष अदालत ने अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम को इस ब्लास्ट का मास्टरमाइंड मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

 

इन जगहों पर हुए थे धमाके

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज, नरसी नाथ स्ट्रीट, शिव सेना भवन, एयर इंडिया बिल्डिंग, सेंचुरी बाज़ार, माहिम, झावेरी बाज़ार, सी रॉक होटल, प्लाजा सिनेमा, जुहू सेंटूर होटल, सहार हवाई अड्डाऔर एयरपोर्ट सेंटूर होटल।

धमाकों के मुख्य अभियुक्त

दाऊद इब्राहिम- मुंबई बम धमाकों का सबसे बड़ा आरोपी अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भारत से फरार है। इनदिनों पाकिस्तान में है।

टाइगर मेमन- धमाकों के बाद से टाइगर मेमन फरार बताया जा रहा है। उस पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ की मदद से बम बनाने का आरोप है।

याकूब मेमन- भारतीय सुरक्षा एजेंसियां याकूब मेमन को गिरफ्तार करके भारत लाई। कोर्ट द्वारा मौत की सजा दिए जाने के बाद फांसी दे दी गई।

मोहम्मद दौसा- मुंबई सीरियल ब्लास्ट केस में दोषी मुस्तफा दौसा की सीने में दर्द की शिकायत के बाद जेजे अस्पताल में 28 जून 2017 को मौत हो गई।

फिरोज खान- इसे फांसी की सजा दी गई।

करीमुल्लाह खान- आजीवन कारावास

ताहेर मर्चेंट- इसे भी फांसी की सजा दी गई है।

रियाज़ सिद्द्कुई- इसे 10 साल की सजा हुई है।

अबु सलेम- अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम को इस ब्लास्ट का मास्टरमाइंड मानते हुए उम्रकैद की सजा दी गई है।

अयूब मेमन- ये भी फरार बताया जाता है।

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll