Hrithik Roshan Career Updates

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्‍ली।

 

बुधवार को भारतीय जनता पार्टी ने मध्य प्रदेश से चार सीटों का ऐलान कर दिया है। पार्टी ने भोपाल सीट से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, गुना से डॉ. केपी यादव, सागर से राज बहादुर सिंह और विदिशा से रमाकांत भार्गव को टिकट दिया है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और दिग्गज कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह को भोपाल सीट पर घेरने के लिए भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा पर दांव खेला है।

टिकट मिलने के बाद उन्होंने कहा कि हम तैयार हैं। मैं कार्य में लग गई हूं। साध्वी प्रज्ञा के नाम पर राष्ट्रीय नेतृत्व से लेकर प्रदेश स्तर तक सहमति के बाद यह फैसला लिया गया है। बुधवार सुबह ही साध्वी प्रज्ञा भोपाल स्थित प्रदेश भाजपा कार्यालय भी पहुंची थीं।

 

 

कौन हैं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर?

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर मालेगांव धमाकों के बाद सुर्खियों में आई थीं, जिसके बाद उन्हें लंबी कानूनी प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ा। साल 2017 में सबूतों के अभाव में एनआइए ने अदालत से उन्हें जमानत देने पर एतराज न होने की बात कही जिसके बाद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बड़ी राहत देते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने जमानत पर रिहा कर दिया। वो 9 साल जेल में रहने के बाद बाहर आईं।

हिंदुत्व का परचम लहराने की शपथ से लेकर जेल तक पहुंचने में साध्वी ने हिचकोलों भरा सफर तय किया है। मध्यप्रदेश के भिंड में जन्मी साध्वी प्रज्ञा के पिता आयुर्वेदिक डॉक्टर थे और संघ से जुड़े थे। जिसकी वजह से प्रज्ञा ठाकुर का झुकाव बचपन से ही संघ की ओर हो गया। इतिहास विषय से परास्नातक प्रज्ञा ने संघ के संपर्क में आने के बाद संन्यास ले लिया।

इनकी सदस्‍य भी रहीं हैं साध्‍वी प्रज्ञा

इससे पहले वे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और दुर्गा वाहिनी की सक्रिय सदस्य भी रहीं। अपनी भाषण शैली की वजह से उन्हें जल्द हिंदी भाषी प्रदेशों में लोकप्रियता मिलने लगी। उन्होंने सूरत में एक आश्रम भी बनाया और वहीं से वो देश भर में घूमने लगीं। कहा जाता है कि भाजपा के पूर्व विधायक सुनील जोशी ने साध्वी के सामने विवाह का प्रस्ताव भी रखा जिसे उन्होंने ठुकरा दिया।

साध्वी अपने तीखे बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहीं। उन्होंने तत्कालीन गृहमंत्री पी चिदंबरम पर “भगवा आतंकवाद” शब्द गढ़ने का भी आरोप लगाया। 2018 में गुजरात में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को “इटली वाली बाई” कह दिया था।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement