Rajashree Production Declared New Project After Three Years of Prem Ratan Dhan Payo

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली

 

देश में नोटबंदी के दो साल पूरे हो गए। ठीक दो साल पहले मोदी सरकार ने हजार और 500 के नोट बंद कर दिए थे। पुराने नोट बैंक से बदलने का आदेश जारी हुआ था जिससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। सरकार नोटबंदी को बड़ी उपलब्धि बताती रही है, तो विपक्ष इसे आर्थिक आपदा बताता रहा है।

 

दो साल पूरे होने पर विपक्ष ने सरकार को घेरते हुए माफी मांगने की मांग की है। कई कांग्रेस नेताओं ने ट्वीट कर नोटबंदी पर नाराजगी जाहिर की है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी मोदी सरकार पर करारा प्रहार किया है। उन्होंने इसे “बीमार सोच” वाला और “मनहूस” कदम करार दिया है।

 

मनमोहन सिंह ने कहा, “नोटबंदी से भारतीय अर्थव्यवस्था पर जो कहर बरपा, वह अब सबके सामने है। नोटबंदी ने हर व्यक्ति को प्रभावित किया, चाहे वह किसी भी धर्म, जाति, पेशा या संप्रदाय का हो। अक्सर कहा जाता है कि वक्त सभी जख्मों को भर देता है लेकिन नोटबंदी के जख्म-दिन-ब दिन और गहराते जा रहे हैं।”

 

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नोटबंदी के दिन को काला दिवस करार दिया है। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने एक ट्वीट कर नोटबंदी की कीमत समझाई है। थरूर ने इस दिन को आपदा बताते हुए #DemonetisationDisasterDay के नाम से ट्वीट किया है। थरूर के मुताबिक, नोटबंदी के कारण नए नोट छापने पर 8 हजार करोड़ रुपए का खर्च आया, 15 लाख लोगों की नौकरी गई, 100 लोग जान से हाथ धो बैठे और जीडीपी में डेढ़ फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

 

एक और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने ट्वीट कर सरकार पर हमला बोला और लिखा, हम ऐसा कतई नहीं करेंगे क्योंकि हम सभ्य हैं। नरेंद्र मोदी को 730 दिन बाद भी ऐसा नहीं लगता कि 8 बजे रात तक देश के लोगों से माफी मांग सकें। यह ऐसी घटना है जिसमें 100 लोगों की मौत हो गई।

 

बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने काफी कड़े शब्दों में नोटबंदी की आलोचना की है। ममता ने ट्वीट में लिखा, काला दिन। सरकार ने नोटबंदी जैसा बड़ा घोटाला कर देश के लोगों को धोखा दिया है। इसने अर्थव्यवस्था और लाखों लोगों की जिंदगी तबाह कर दी। जिन लोगों ने नोटबंदी की, लोग उन्हें जरूर सजा देंगे।

 

एआईएमआईएम नेता और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी नोटबंदी को लेकर करारा प्रहार किया। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि नरेंद्र मोदी की संवेदनहीनता ने लाखों लोगों की जिंदगी और देश की अर्थव्यवस्था बर्बाद कर दी। ओवैसी ने लिखा, 2019 में वो (मोदी) हमें नोटबंदी भूलने के लिए कहेंगे, ठीक वैसे ही जैसे गुजरात 2002 के दंगे भूलने की बात कही थी लेकिन हम भूले नहीं।

 

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने 8 नवंबर, 2016 को 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान किया था। 8 नवंबर की रात से ये पुराने नोट बंद हो गए थे। नोटबंदी के बाद से ही लगातार आरबीआई ने नोटों की गिनती करने में लगी हुई थी। नोटबंदी को लेकर विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर हमलावर रहा है। मोदी सरकार ने कालाधन पर वार करने के लिए नोटबंदी की घोषणा की थी।

 

इसको लेकर विपक्ष हमेशा हमलावर रहा। उनका कहना है कि नोटबंदी की वजह से काला धन तो वापस नहीं आया लेकिन इससे आम आदमी को काफी ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वहीं, सरकार हमेशा इसे सफल बताती रही है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement