Golmal Starcast Will Be in Cameo in Ranveer Singh Simba

दि राइजिंग न्यूज़

सूरत।

 

कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने गुरुवार को नरेंद्र मोदी के बारे में विवादास्पद बयान दिया। उन्होंने कहा कि वे नीच किस्म के हैं। अय्यर का यह बयान सामने आने के कुछ ही देर बाद गुजरात के सूरत के लिंबायत में मोदी ने रैली की। उन्होंने कहा, ‘‘श्रीमान मणिशंकर अय्यर ने आज कहा कि मोदी नीच है। मोदी नीच जाति का है। क्या यही भारत की महान परंपरा है? ये गुजरात का अपमान है। मुझे तो मौत का सौदागर तक कहा जा चुका है। गुजरात की संतानें इस तरह की भाषा का तब जवाब दे देगी, जब चुनाव के दौरान कमल का बटन दबेगा। मुझे भले ही नीच कहा है लेकिन आप लोग अपनी गरिमा मत छोड़िएगा।’’

 

रैली में मोदी ने कहा कि देश में गुजरात के विकास की चर्चा हमेशा से होती रही है। पहले लोग कहते थे कि गुजरात पीछे है, अब जब वो बाकी राज्यों से आगे निकल गया है तो लोगों को हजम नहीं हो रहा।

''गुजरात में ओखी तूफान का हल्ला था, लेकिन आया तो नहीं। यहां जो सपने देख रहे हैं वो भी नहीं आएंगे। मैं गुजरात का सीएम था तो लोग कई तरह के इल्जाम लगाते थे। पहले गुजरात ने भरोसा किया अब देश कर रहा है। उन्होंने तो सरदार पटेल की धरती का भी सम्मान नहीं किया।''

 

''हमारा ट्रैक रिकॉर्ड रहा है कि हमने विकास को सामने लाकर दिखाया है। ये बीजेपी की कुशलता और ईमानदारी का प्रतीक है। हम 10 हजार करोड़ से एक लाख करोड़ के बजट तक राज्य को ले आए हैं। ये तो आठवीं का बच्चा भी समझता है। फिर तो सवा सौ करोड़ भारतीयों की बात हो रही है। गुजरात और देश ही मेरा मालिक है।''

गुजरात पूरे देश के लिए विकास का पैमाना है

 

मोदी ने आगे कहा, ''आज गुजरात पूरे देश के लिए विकास का एक पैमाना है। उन्हें स्वीकार करना चाहिए कि उनके राज में क्या हालात थे? साढ़े आठ हजार करोड़ रेवेन्यू आता था आज एक लाख पांच हजार करोड़ आता है। पहले सूरत क्या था? आज ये हीरे और सिल्क उद्योग की वजह चमक रहा है। ये विकास है।''

 

''पहले गर्मी में लाइट नहीं आती थी। कारोबारियों को भी नहीं मिलती थी। लोकल भाषा में लंगड़ी बिजली कहा जाने लगा था। आज 24 घंटे बिजली आती है। हर गांव में बिजली आती है। हमने सवा लाख ट्रांसफार्मर लगाए और सब स्टेशन बनाए।''

''आज सूरत का एयरपोर्ट है। हमने इसके लिए कितनी लड़ाई लड़ी। कांग्रेस इसमें रोढ़े अटकाती थी। अब यहां के लोगों को इंटरनेशनल एयरपोर्ट चाहिए। बताइए चाहिए की नहीं? कौन कर सकता है ये काम? आज हम सूरत में दुनिया का बेहतरीन रेलवे स्टेशन बना रहे हैं।''

 

''हमारा लक्ष्य देश के सामान्य आदमी को मदद देना है उसका विकास करना है। एक परिवार ने देश में 50 साल राज किया। लेकिन, उसने एविएशन पॉलिसी नहीं बनाई। ये काम हमने कर दिखाया।''

मैं पीएम बना तो गरीबों का लगा कि अब मदद मिलेगी

 

''हर आदमी का सपना एक घर होता है। कांग्रेस के राज में ये नहीं हो पाया। हमने नोटबंदी के बाद कहा कि हम देश के हर आदमी को छत देंगे। इसके लिए देश की किसी सरकार ने पहली बार योजना बनाई। एक गरीब पीएम बना तो लोगों को लगा कि मैं उनकी मदद करूंगा। विधवा और गरीब लोगों ने पेंशन के लिए मुझे खत लिखा। सात रुपए की पेंशन भी दी जाती थी।

 

''मैंने अफसरों को बुलाकर कहा कि सात रुपए तो रिक्शे वाला ही ले लेता है। हमने इसे एक हजार किया। हमारे रूपाणी जी ने इनके लिए 10 रुपए में भोजन की व्यवस्था की। एक रुपए में पेंशन की स्कीम लाए। हमारा हीरा और टेक्सटाइल कारोबार आज चमक रहा है। सूरत के हीरे के लिए रूस के प्रेसिडेंट पुतिन ने मदद का भरोसा दिलाया था।''

''कांग्रेस का काम करने का कल्चर क्या है? भाई-भतीजा, दामाद और रिश्तेदार यही दिखते हैं। कांग्रेस की सरकार चाहे राज्य में हो, केंद्र में हो या फिर नगर पालिका में। इनका काम लटकाना, भटकाना और अटकाना है। नर्मदा योजना को देख लीजिए। सरदार पटेल तो खुद नेहरू के पास इसके लिए गए थे। आज कच्छ से काठियावाड़ तक नर्मदा हिलोरे मार रही हैं। जीएसटी हम लाए तो इन्हें दिक्कत हो रही है।''

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement