Box Office Collection of Dhadak and Student of The Year

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

फेस्टिव सीजन शुरू हो चुका है और इसी के साथ कई ई-कॉमर्स और इलेक्ट्रॉनिक प्रॉडक्ट निर्माता कंपनियों ने कस्टमर्स पर डिस्काउंट और ऑफर्स की बरसात कर दी है। एक तरफ तो जहां अमेजन, फ्लिपकार्ट, ईबे और पेटीएम मॉल जैसी कंपनियां कस्टमर्स को 20,000 रुपए का डिस्काउंट दे रही हैं, वहीं दूसरी तरफ सैमसंग और हुवावे जैसी कई इलेक्ट्रॉनिक कंपनी 70 परसेंट से ज्यादा डिस्काउंट और कैशबैक देने का दावा कर रही हैं। सेल चाहे ऑफलाइन हो या ऑनलाइन, लेकिन ढेरों ऑफर्स के बीच लोग अनप्रेक्टिकल शॉपिंग कर लेते हैं। कई बार लोग सिर्फ डिस्काउंट सुनकर चीजें खरीद लेते हैं, जबकि उसकी वास्तविक कीमत डिस्काउंट से भी कम होती है।

यहां हम आपको 5 ऑनलाइन शॉपिंग टिप्स बता रहे हैं, जो इस फेस्टिव सीजन में आपके काम आ सकते हैं:-

  • किसी प्रॉडक्ट पर डिस्काउंट या ऑफर देखने के बाद सबसे पहले खुद से सवाल करें कि क्यों खऱीदना है? क्या वाकई उसकी जरूरत है? इस सवाल के जरिए आप अनप्रेक्टिकल शॉपिंग यानी ऐसी चीजें खरीदने से बच सकेंगे, जिनकी जरूरत आपको बिल्कुल नहीं है, लेकिन उन्हें आप सिर्फ डिस्काउंट की लालच में खरीद रहे थे।
  • कई कंपनियां यूजर्स को अट्रैक्ट करने के लिए लिमिटेड स्टॉक होने की बात करती हैं। ऐसे में कस्टमर्स सोचते हैं कि लिमिटेड स्टॉक में डिस्काउंट मिलना सोने पर सुहागा है, जिसे हाथ से जाने नहीं देना है। लिमिटेड स्टॉक जैसी स्कीम सिर्फ खऱीदारों को फंसाने के लिए होती है।
  • कई लोग बंपर डिस्काउंट में प्रॉडक्ट की एक्चुअल कीमत जानना और उसका कंपेरिजन करना भूल ही जाते हैं। ऐसे में बाद में पछताने के अलावा कुछ नहीं रह जाता है। बंपर डिस्काउंट या फ्री गिफ्ट के झांसे में न आएं और प्रॉडक्ट की ऑफलाइन और ऑनलाइन कीमत जानकर प्राइस कंपेयर कर लें।

  • कई बार सेल में एक्सचेंज ऑफर दिया जाता है। ज्यादातर स्मार्टफोन पर ऐसे ऑफर देखने को मिलते हैं। लोगों को लगता है कि एक्सचेंज में उनकी चांदी हो जाएगी, लेकिन अक्सर ये ठगी का ऑफर होता है। एक्सचेंज में कुछ भी खरीदने से पहले दूसरे सोर्स से उस प्रोडक्ट की असली कीमत पता करें। बिना रिसर्च किए शॉपिंग करना आपको परेशान कर सकता है।
  • आपको बता दें कि ऑनलाइन शॉपिंग का चलन बढ़ने के साथ जालसाज भी सक्रिय हुए हैं। कई वेबसाइट भारी डिस्काउंट ऑफर करके आपको फ्रॉड का शिकार बना लेती हैं। ऐसे में जब भी शॉपिंग करें तो उस वेबसाइट का यूआरएल चेक करें। अगर साइट का यूआरएल HTTPS:// से शुरू हो रही तो ही शॉपिंग के लिए आगे बढ़ें। दरअसल HTTPS:// वेबसाइट की सिक्योरिटी बताती है। जिन साइट्स की शुरुआत HTTPS:// से होती है उन्हें सिक्योर माना जाता है। बिना HTTPS:// साइट से आपकी क्रेडिट कार्ड या किसी भी तरह की बैंकिंग डिटेल लीक्स हो सकती है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll