Actress katrina Kaif and Mouni Roy Visited Durga Puja Pandal

दि राइजिंग न्यूज़

खेल डेस्क।

 

केपटाउन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका ने भारतीय टीम को 72 रनों से हरा कर तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 से बढ़त बना ली है। टेस्ट मैचों में यह भारत की साल 2015 के बाद विदेश में पहली हार है। आखिरी बार भारतीय टीम को विदेशी धरती पर श्रीलंका के हाथों गॉल टेस्ट में हार का सामना करना पड़ा था।

 

 

इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए साउथ अफ्रीका की टीम अपनी पहली पारी में 286 रन पर ऑलआउट हो गई। जिसके बाद अफ्रीकी गेंदबाजों ने भारतीय टीम को पहली पारी में सिर्फ 209 रन पर ही ढेर कर दिया।

 

इस तरह साउथ अफ्रीका को पहली पारी के आधार पर 77 रनों की बढ़त हासिल हुई। दूसरी पारी में भारतीय तेज गेंदबाजों की घातक गेंदबाजी के सामने साउथ अफ्रीका की पूरी टीम 130 रनों पर सिमट गई। जिसके बाद भारत को जीत के लिए 208 रनों का लक्ष्य मिला।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम फिलेंडर की घातक गेंदबाजी के सामने सिर्फ 135 रन ही बना पाई और अफ्रीका ने यह मैच 72 रनों से जीत लिया। दूसरी पारी में टीम इंडिया की ओर से रविचंद्रन अश्विन ने सबसे ज्यादा 37 रन बनाए, जबकि कप्तान विराट कोहली ने 28 रनों की पारी खेली। वेर्नोन फिलेंडर ने छह विकेट लिए जिसके दम पर अफ्रीका ने यह जीत हासिल की है।

 

 

130 रन पर सिमटी अफ्रीका की दूसरी पारी

77 रनों की बढ़त के साथ दूसरी पारी खेलने उतरी साउथ अफ्रीका की पूरी टीम 130 रनों पर आल आउट हो गई। इस तरह भारत को यह मैच जीतने के लिए 208 रनों का लक्ष्य मिला है। तीसरे दिन का खेल बारिश के कारण बाधित रहा था। अपने दूसरे दिन के स्कोर दो विकेट पर 65 रनों से आगे खेलने उतरी साउथ अफ्रीका की टीम ने 65 और रन बनाकर अपने 8 विकेट गंवा दिए। अफ्रीका की टीम भारतीय गेंदबाजों के आगे कमजोर नजर आई और कुल 41।2 ओवरों का सामना करने के बाद पवेलियन लौट गई।

 

मेजबानों को चौथे दिन पहला झटका अमला (4) के रूप में लगा। उन्हें मोहम्मद शमी ने रोहित शर्मा के हाथों कैच आउट करवाया। अमला के आउट होने के बाद रबाडा (5) को भी शमी ने ज्यादा देर तक मैदान पर नहीं टिकने दिया। वह शमी की गेंद पर कप्तान विराट कोहली के हाथों लपके गए। इस पारी में साउथ अफ्रीका के लिए सबसे अधिक रन बनाने वाले एबी डिविलियर्स (35) ने विकेट के एक छोर पर खड़े पारी को संभालने की हर कोशिश कर रहे थे, लेकिन उन्हें बाकी खिलाड़ियों का साथ नहीं मिला।

 

रबाडा के आउट होने के बाद डिविलियर्स का साथ देने आए कप्तान फाफ डु प्लेसिस (0) को इस मैच के जरिए टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाले जसप्रीत बुमराह ने खाता खोलने का मौका भी नहीं दिया और विकेट के पीछे खड़े ऋद्धिमान साहा के हाथों कैच आउट कर मेजबान टीम का पांचवां विकेट गिराया।

 

 

डु प्लेसिस के बाद क्विंटन डी कॉक (8) भी बुमराह की ही गेंद पर साहा के हाथों लपके गए। डी कॉक जब आउट हुए तब टीम का स्कोर 92 था। टीम के खाते में तीन रन ही जुड़ पाए थे कि शमी ने वर्नोन फिलेंडर को एलबीडब्लू आउट कर टीम का सातवां विकेट भी गिरा दिया। फिलेंडर भी खाता खोले बिना पवेलियन लौट गए।

 

डिविलियर्स के साथ केशव महाराज ने 27 रनों की साझेदारी की और टीम को 100 के आंकड़े के पार पहुंचाया, लेकिन भुवनेश्वर कुमार ने इस साझेदारी को ज्यादा देर तक टिकने नहीं दिया। केशव महाराज (15) भुवनेश्वर की गेंद पर सीधा शॉट मारने की कोशिश कर रहे थे, जब गेंद उनके बल्ले से लगकर साहा के हाथों में समा गई। 122 के कुल स्कोर पर केशव भी पवेलियन पहुंचे।

 

भुवनेश्वर ने 130 के कुल स्कोर पर मोर्ने मोर्केल (2) को भी साहा के ही हाथों कैच आउट किया और साउथ अफ्रीका का 9वां विकेट गिरा दिया। इसी स्कोर पर एक छोर पर टीम की पारी को संभाले खड़े डिविलियर्स भी आउट हो गए। बुमराह की गेंद पर लंबा शॉट मारने के चक्कर में ठीक बाउंड्री के पास भुवनेश्वर के हाथों लपके गए।

 

डिविलियर्स के आउट होने के साथ ही पहले सत्र के समापन की घोषणा कर दी गई। इस टेस्ट मैच में भारत के लिए साउथ अफ्रीका की दोनों पारियों में साहा ने कुल 10 कैच पकड़े। इसके अलावा, यह पहली बार हुआ है कि भारत के चार तेज गेंदबाजों ने किसी टीम की दोनों पारियों में कम से कम एक-एक विकेट हासिल किया है। मेजबान टीम को सस्ते में समेटने में मोहम्मद शमी (3/28) और जसप्रीत बुमराह (3/39) के अलावा, भुवनेश्वर कुमार (2/33) और हार्दिक पांड्या (2/27) ने अहम भूमिका निभाई।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement