Loveratri First Song Release

दि राइजिंग न्‍यूज

 

मंगलवार (15 मई) ज्येष्ठ मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या को विशेष योग में शनि जयंती मनाई जाएगी। ऐसे में शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए यह उपाय करेंगे तो आपको सौभाग्य मिलेगा। ज्योतिषाचार्य पंडित संतराम ने बताया कि, इस बार शनि जयंती के दिन सर्वार्थसिद्धि योग बन रहा है। इसके साथ ही वटसावित्री अमावस्या और भौमवती अमावस्या भी है।

इसलिए इस खास योग में अगर साढ़ेसाती, शनि के ढैया या महादशा से जूझ रहे लोगों के कष्ट इस दिन हमेशा के लिए दूर हो सकते हैं। इसलिए शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए ये उपाय जरूर करें।

  • शनि जयंती के दिन पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक जलाने से रोग दूर होते हैं। कलयुग में शनि की कृपा प्राप्त करने के लिए इस दिन दान करना चाहिए। सुन्दरकाण्ड या हनुमान चालीसा का रोजाना पाठ करना चाहिए।

  • सूर्योदय से पहले उठना चाहिए और स्नान के बाद शनि महाराज की पूजा करनी चाहिए। सरसों के तेल में तिल डालकर शनिदेव की प्रतिमा के नीचे दीपक को जला कर रखना चाहिए। इस दिन काले कपड़े पहने।

  • इस दिन मांस मदिरा से बचना चाहिए। हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए। शनि महाराज की कृपा के लिए गाय की सेवा करनी चाहिए। शनि शांति के लिए शनि दोष शांति यत्र भी लाभदायक साबित हो सकता है।

  • नाखूनों से जमीन खोदने से बचना चाहिए। शनि की कृपा के लिए काले कपडे, जामुन, काली उड़द, काले जूते, तिल, लोहा, तेल आदि का दान करें। इस दिन काले चने को भूनकर उनका भोग शनिदेव को लगाएं।

  • काले घोड़े के नाल की अंगूठी या नाव के कील की अंगूठी पहनना भी साढ़ेसाती के कष्ट में राहत देता है। इस दिन काली चीटियों को आटा या फिर मीठा खिलाने से भी लाभ मिलता है। इस दिन कांसे की कटोरी में तेल भरकर उसे रात  को रख दें। इसके बाद सुबह उसमें अपना चेहरे देखें और उसे शनिदेव की मूर्ति पर चढ़ाएं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll