Home Spiritual Pujnjabis Bihar Connection

विजयवाड़ा: निदेशक एसएस राजामौली की सीएम चंद्रबाबू नायडू से मुलाकात

कलकत्ता हाईकोर्ट दुर्गा पूजा विसर्जन विवाद पर गुरुवार को फैसला सुनाएगा

दिल्ली: प्रसाद ग्रुप के मालिक के घर CBI की छापेमारी

योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य गुरुवार को लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा देंगे

कावेरी जल विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

जानिए पंजाबियों का बिहार कनेक्‍शन

Spiritual | 5-Jan-2017 03:05:51 PM
     
  
  rising news official whatsapp number

pujnjabis bihar connection


दि राइजिंग न्‍यूज

सिखों के 10वें गुरु थे गुरुगोविंद सिंह। उनका जन्म पटना साहिब में हुआ था। उन्होंने ही साल 1699 में खालसा पंथ की स्थापना की थी। इनकी माता का नाम गुजरी और पिता का नाम गुरु तेग बहादुर था। गुरुगोविंद सिंह के जन्म तख़्त श्री पटना हरिमंदर साहिब में हुआ था। गुरु गोविंद सिंह ने लक्ष्यों के प्रति खुद को पुन: समर्पित करने और मानवता, धर्मनिरपेक्षता के मूल्यों पर आधारित एक सामंजस्यपूर्ण समाज का निमार्ण किया था।

गुरु गोबिंद सिंह जी के नेतृत्व में सिख समुदाय ने काफी कुछ सीखा था। उन्होंने सन् 1699 में बैसाखी के दिन खालसा का निर्माण किया। गुरु गोविंद सिंह को संस्कृत, उर्दू, हिंदी, ब्रज, गुरमुखी, पारसी और पंजाबी जैसी भाषाएं भी आती थीं। गुरु गोविंद सिंह एक संत-सिपाही और सत्य, धर्म और विश्व बंधुत्व के प्रतीक थे।

गुरु गोबिंद सिंह एक महान योद्धा थे और उन्होंने सामाजिक अन्याय और उस समय के निरंकुश शासकों के खिलाफ धर्मयुद्ध छेड़ा था। मानवीय और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों की रक्षा के लिए गुरु गोविंद सिंह ने अपने चार बेटों, पिता और माता की कुबार्नी दी थी जो मानव जाति के इतिहास में दुर्लभ है। गुरु गोविंद सिंह को संस्कृत, उर्दू, हिंदी, ब्रज, गुरमुखी, पारसी और पंजाबी जैसी भाषाएं भी आती थीं।



जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
गणपति बप्पा मोरया मंगल मूर्ति मोरया । फोटो - कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की