Sanjay Dutt invited Ranbir and Alia For Dinner

दि राइजिंग न्‍यूज

 

लोग भगवान का आशीर्वाद पाने के लिए मंदिर जाते हैं। इसके अलावा घर में सुख-शांति और समृद्धि पाने के लिए पूजा घर बनवाते हैं जहां पर विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियां और तस्वारें रखते हैं, लेक‌िन कई बार जाने-अनजाने ऐसी गलत‌ियां हो जाती हैं ज‌िससे घर का पूजा स्‍थान उन्नत‌ि में बाधक बन जाता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार इससे कई तरह की परेशान‌ियों का सामना करना पड़ सकता है।

 

 

  • बहुत से लोग अपने शयन कक्ष में ही पूजा स्‍थान बना लेते हैं जो वास्तु शास्‍त्र के अनुसार सही नहीं है। शयन कक्ष में पूजा घर नहीं होना चाह‌िए इससे पारिवारिक जीवन के संबंधों में परेशानी आती हैं।
  • आजकल घर में मंद‌िर बनाने का प्रचलन बढ़ गया है, जबक‌ि वास्तु व‌िज्ञान के अनुसार घर में पूजा का स्‍थान अलग से होना चाह‌िए, लेक‌िन यह मंद‌िर नहीं होना चाह‌िए। मंद‌िर खुले स्‍थानों में होना उच‌ित है।
  • पूजा घर में पुराने हो चुके फूल, माला, अगरबत्त‌ियां जमा करके नहीं रखें इनसे नकारात्मक उर्जा का संचार होता है जो आपकी खुश‌ियां और आय को कम करने का काम करते हैं।
  • वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार पूजा घर शौचालय और स्नान गृह की दीवारों से लगा हुआ नहीं होना चाह‌िए।
  • रसोई घर के साथ भी पूजा घर नहीं होना चाह‌िए इसकी वजह यह है क‌ि रसोई घर में जूठन और डस्टबीन जैसी चीजें प‌व‌ित्रता को नष्ट करती हैं। साथ ही कभी भी सीढ़ी के नीचे पूजा घर नहीं बनानी चाहिए।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll