Home Spiritual Navratri Special: Know About How It Was Start And Significance

राहुल गांधी के इंटरव्यू पर बीजेपी ने चुनाव आयोग से की शिकायत

राजस्थान: भारत-ब्रिटेन की सेना ने बीकानेर में किया संयुक्त युद्धाभ्यास

PM मोदी कल मुंबई में नेवी की पनडुब्बी INS कावेरी को देश को समर्पित करेंगे

पंजाब: STF ने लुधियाना से 3 ड्रग तस्करों को किया गिरफ्तार

पटना: मगध महिला कॉलेज में जींस, मोबाइल और पटियाला ड्रेस पर बैन

...तो ऐसे शुरू हुआ नवरात्रि के 9 दिनों का व्रत

Spiritual | 20-Sep-2017 10:52:51 AM | Posted by - Admin

   
Navratri Special: Know About How it Was Start And Significance

दि राइजिंग न्‍यूज

 

गुरुवार से महाशक्ति उपासना का त्योहार शारदीय नवरात्रि शुरू होने जा रही है। नवरात्रि में देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों की अलग-अलग पूजा की जाती है। साल में दो बार नवरात्रि मनाया जाता है पहला चैत्र महीने में मनाया जाता है और दूसरा आश्विन महीने में शारदीय नवरात्रि के रूप में।

क्या आपको पता है कि नौ दिनों तक माता दुर्गा की पूजा और उपासना की शुरुआत कैसे हुई, आइए जानते हैं-

 

 

  • सबसे पहले भगवान राम ने शारदीय नवरात्रि की पूजा लंका में विजय प्राप्त करने के लिए की थी। भगवान राम ने नौ दिनों तक उपासना करने के बाद दसवें दिन लंका पर चढ़ाई करके विजय प्राप्त किया था।
  • पौराणिक कथाओं के अनुसार, ब्रह्माजी ने भगवान राम से रावण का वध करने के लिए चंडी देवी के प्रसन्न करने को कहा। साथ ही हवन में दुर्लभ 108 नीलकमल अर्पित करने को कहा। वहीं दूसरी तरफ रावण ने भी मां चंडी को खुश करने के लिए मां का पाठ करना शुरू कर दिया। नौ दिनों तक भगवान राम ने मां की पूजा और उपवास किया था।
  • भगवान राम की पूजा में विघ्न डालने के उद्देश्य से रावण ने मायावी तरीके से हवन सामग्री में से एक-एक नीलकमल को गायब करा दिया। जब यह बात भगवान राम को पता चली तो पूजा के संकल्प को पूरा करने के लिए उन्होंने अपनी एक आंख मां को समर्पित करनी चाही और तीर से अपने नेत्र निकालने लगे। तभी मां पूजा से प्रसन्न होकर प्रगट हुईं और राम जी को विजय होने का वरदान दिया।
  • वहीं दूसरी तरफ रावण भी मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए पाठ करने लगा तब हनुमान जी ने ब्राह्राण का रुप धारण करके एक मंत्र जयादेवी भूर्तिहरिणी में हरिणी के स्थान पर कारिणी शब्द का उच्चारण करा दिया। इससे मां दुर्गा रावण से नाराज हो गईं और वरदान देने बजाय उसको सर्वनाश होने का श्राप दे दिया।
  • एक अन्य कथा के अनुसार राक्षस महिषासुर ने अपनी तपस्या के बल पर देवताओं से अजेय होने का वरदान प्राप्त कर लिया था। मषिसासुर ने अपनी ताकत से पाताललोक का विस्तार स्वर्गलोक तक कर दिया। महिषासुर ने सूर्य, चन्द्र, इन्द्र, अग्नि, वायु, यम, वरुण और अन्य देवतओं के भी अधिकार छीन लिए और स्वर्गलोक का मालिक बन बैठा।
  • देवताओं के स्वर्गलोक छिन जानें के कारण पृथ्वी पर रहने को मजबूर होना पड़ा। तब सभी देवताओं ने मां दुर्गा को प्रगट किया। महिषासुर का अंत करने लिए सभी देवताओं ने अपने सभी अस्त्र-शस्त्र मां दुर्गा को समर्पित कर दिए। मां दुर्गा और महिषासुर के बीच नौ दिनों तक युद्ध चला और अंत में मां ने महिषासुर का वध किया तभी से नवरात्रि का आरम्भ माना जाता है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news