Akshay Kumar and Priyadarshan Donated to Save Flood Affected People in Kerala

दि राइजिंग न्‍यूज

 

मंगलवार (12 जून) को बड़ा मंगल और मास शिवरात्रि पड़ रही है। इस दिन शिव पूजा का भी प्रावधान बताया गया है। तो मंगल के दुष्‍प्रभाव को कम करने के लिए करें ये उपाय।

मंगल को फलदायी है शिव पूजा

शास्‍त्रों के अनुसार मंगलवार के दिन शिव पूजा भी की जाती है। ऐसा करने से बजरंग बली जो रुद्रावतार हैं प्रसन्‍न होते हैं और शिव जी का आर्शिवाद भी प्राप्‍त होता है। इसके साथ ही मंगल ग्रह शिव जी से भयभीत रहता है इसलिए उसके दुष्‍प्रभावों को इस दिन शिव पूजा करके कम किया जा सकता है। महादेव का नाम लेने से मंगल की दशा में सुधार की भी बाते कही जाती हैं।

ज्‍योतिषियों के अनुसार कुंडली में मंगल की खराब दशा को सुधारने के लिए मंगल को पड़ रही इस मास शिवरात्रि का लाभ उठायें और नीचे दिये उपायों से शिव जी की पूजा करें।

ये उपाय हैं खास

मंगल के प्रभाव का सबसे पहला प्रभाव आपके स्‍वभाव पर पड़ता है और आप कई बार क्रोधी और कलह प्रिय हो जाते हैं। इससे बचने के लिए-

सुबह जल में लाल पुष्प डालकर शिव जी को अर्पित करें।

लाल आसन पर बैठ कर “ॐ नमो भगवते रुद्राय” मंत्र का जाप करें।

इसी तरह यदि मंगल के चलते इंसान का आत्मविश्वास और साहस घटने लगता है और शक्ति और सामर्थ्य में भी कमी महसूस होने लगती है तो इन उपायों से लाभ मिलेगा-

शिव जी के सामने गुग्गल की धूपबत्ती जलाएं।

शिव तांडव स्तोत्र का पाठ करें।

संपत्ति और जमीन से जुड़े मामले मंगल के ही प्रभाव से संचालित होते हैं यदि ऐसा कोई आपके सामने है तो-

सुबह सर्वप्रथम शिव मंदिर में दर्शन करने जायें।

शिवलिंग पर गुड़ मिला हुआ जल अर्पित करें और उनसे इस संकट से निकालने की प्रार्थना करें।

मंगल के दिन चन्द्रमा की रोशनी में “रुद्राष्टक” का पाठ करें और 'शिव-शिव' का जाप करें।

यदि आपके वैवाहिक जीवन में तनाव दिखाई पड़े तो ये मंगल का प्रभाव हो सकता है। इससे रक्षा के लिए आज के दिन ये उपाय करें-

सुबह शिव जी को सफ़ेद और पार्वती जी को पीले फूल अर्पित करें।

शिव-पार्वती के सामने घी का दीपक जलाएं।

“ॐ उमामहेश्वराभ्याम् नमः” का जाप करें।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll