Home Spiritual Know Important Things About Vaishakh Purnima 2018

पाकिस्तान से आतंकियों की घुसपैठ रुकना जरुरी-सेना प्रमुख

कर्नाटकः विधानसभा में फ्लोर टेस्ट, CM ने पेश किया अविश्वास प्रस्ताव

बिपिन रावत-मेजर लितुल गोगोई ने अगर गलती की है तो सेना सख्त कार्रवाई करेगी

येदियुरप्पाः हमने स्पीकर पद की मर्यादा के लिए अपना उम्मीदवार हटाया

पाकिस्तान ने ईद की छुट्टियों के दौरान भारतीय फिल्मों के प्रसारण पर रोक लगाई

बहुत महत्‍वपूर्ण है वैशाख पूर्णिमा, जानिए क्‍या करें इस दिन

Spiritual | Last Updated : Apr 29, 2018 10:39 AM IST

Know Important Things about Vaishakh Purnima 2018


दि राइजिंग न्‍यूज

 

इस वर्ष वैशाख पूर्णिमा 30 अप्रैल को है। हालांकि पूर्णिमा तिथि का आरंभ 29 अप्रैल को सूर्योदय के कुछ समय पश्चात होने से इस दिन पूर्णिमा उपवास रखा जाएगा। पूर्णिमा तिथि, पूर्णत्व की तिथि मानी जाती है। इस तिथि को चन्द्रमा सम्पूर्ण होता है, सूर्य और चन्द्रमा समसप्तक होते हैं। इस तिथि पर जल और वातावरण में विशेष ऊर्जा आ जाती है।

चन्द्रमा इस तिथि के स्वामी होते हैं, अतः इस दिन हर तरह की मानसिक समस्याओं से मुक्ति मिल सकती है। इस दिन स्नान, दान और ध्यान विशेष फलदायी होता है। इस दिन सत्यनारायण देव या शिव जी की उपासना अवश्य करनी चाहिए।

वैशाख पूर्णिमा का महत्व

  • इस दिन को दैवीयता का दिन माना जाता है।

  • इसी दिन भगवान बुद्ध का जन्म भी हुआ था।

  • इस दिन ध्यान, दान और स्नान विशेष लाभकारी होता है।

  • इस दिन ब्रह्म देव ने काले और सफेद तिलों का निर्माण भी किया था।

  • अतः इस दिन तिलों का प्रयोग जरूर करना चाहिए।

  • इस बार वैशाख पूर्णिमा 30 अप्रैल को रहेगी।

पूर्णिमा की खास बातें-

  • चन्द्रमा के साथ विशाखा नक्षत्र की स्थिति होगी।

  • बृहस्पति चंद्र का अद्भुत योग भी होगा।

  • स्वास्थ्य और जीवन का कारक सूर्य अपनी उच्च राशि में होगा।

  • इसके अलावा सुख को बढ़ाने वाला ग्रह शुक्र भी स्वगृही होगा।

  • इस पूर्णिमा को स्नान और दान करने से चन्द्रमा की पीड़ा से मुक्ति मिलेगी।

  • साथ ही साथ आर्थिक स्थिति भी अच्छी होती जाएगी।

क्‍या करें कि ग्रहों की स्थितियां बेहतर हो सके?

  • प्रातः काल स्नान के पूर्व संकल्प लें।

  • पहले जल को सर पर लगाकर प्रणाम करें।

  • फिर स्नान करना आरम्भ करें।

  • स्नान करने के बाद सूर्य को अर्घ्य दें।

  • साफ वस्त्र या सफेद वस्त्र धारण करें, फिर मंत्र जाप करें।

  • मंत्र जाप के पश्चात् सफेद वस्तुओं और जल का दान करें।

  • चाहें तो इस दिन जल और फल ग्रहण करके उपवास रख सकते हैं।

भगवान बुद्ध से इस पूर्णिमा का क्या सम्बन्ध है?

  • वैशाख पूर्णिमा पर भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था।

  • इसी दिन भगवान बुद्ध को ज्ञान भी मिला था।

  • इसी दिन भगवान बुद्ध ने अपनी देह का त्याग भी किया था।

  • वैशाख पूर्णिमा भगवान बुद्ध के जीवन से बहुत गहराई से जुड़ी हुई है।

  • इस दिन भगवान बुद्ध का ध्यान करना विशेष लाभदायक होता है।

  • दुनिया भर में इस दिन भगवान बुद्ध की याद में कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...