Home Spiritual Eveyday Provided Meal In Jwala Devi Temple

काले धन और भ्रष्टाचार पर हमारी कार्रवाई से कांग्रेस असहज: अरुण जेटली

मुंबई के पृथ्वी शॉ बने दिलीप ट्रॉफी फाइनल में शतक लगाने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी

दिल्ली में बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक संपन्न हुई

31 अक्टूबर को रन फॉर यूनिटी का आयोजन होगा: अरुण जेटली

एक निजी संस्था ने हनीप्रीत का सुराग देने वाले को 5 लाख का इनाम देने की घोषणा की

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

यहां मां की कृपा से हर दिन मिलता है भोजन

Spiritual | 2-Dec-2016 12:54:45 PM
     
  
  rising news official whatsapp number

  • उचेहरा गांव के घरों में नहीं बनता है खाना
  • मां ज्वाला देवी मंदिर में 24 घंटे भंडारे का आयोजन

eveyday provided meal in jwala devi temple


दि राइजिंग न्‍यूज

उमरिया के उचेहरा गांव के लोगों को हर रोज भंडारे का आमंत्रण आता है। यहां के लोगों के घरों में खाना नहीं बनता। मंदिर में माता की चौकी लगती है और लोग उसमें जाकर भर पेट भोजन ग्रहण करते हैं। यह भंडारा सालों से चल रहा है। प्रतिदिन कोई न कोई भक्त भंडारे की कमान संभाल लेता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि मां की कृपा से उन्हें दो वक्त का खाना मिल जाता है। उन्हें चूल्हा जलाने की आवश्यकता नहीं पड़ती।

 

मध्यप्रदेश राज्य के उमरिया जिले से करीब 30 कि.मी. दूर और नौरोजाबाद स्टेशन से 4 कि.मी. दूर मां ज्वाला उचेहरा धाम स्थित है। यहां पर करौंदा के पेड़ के नीचे मां ज्वाला देवी की प्राचीन प्रतिमा स्थापित है। इस मंदिर में 24 घंटे भंडारे का आयोजन होता है। गांव के लोग इस भंडारे का प्रसाद ग्रहण करते हैं। यही कारण है कि यहां के लोगों के घरों में खाना नहीं बनता।

 

कहा जाता है कि एक भक्त घोरचट नदी के तट पर घने जंगल में प्रतिदिन सुबह-शाम मां ज्वाला की पूजा करने जाता था। एक दिन मां ज्वाला ने भक्त के स्वप्न में आकर कहा कि मैं तुम्हारी भक्ति से अति प्रसन्न हूं, मांगो तुम्हें क्या चाहिए। भक्त ने कहा मां मुझे धन-दौलत और दुनिया की तमाम सुख सोहरत से कोई सरोकार नहीं है। आप इस गांव में रहो। मां ने उसकी भक्ति से प्रसन्न होकर शक्ति स्वरूप में सदैव गांव में रहकर भक्त की इच्छा पूरी की। उसके बाद से यह स्थान लोगों की आस्था का केंद्र बन गया।

 

यहां हर माह की पूर्णिमा के बाद पहले सोमवार रात को माता की चौकी लगती है। माता की चैकी में पंडा को माता के भाव आते हैं। भक्त चौकी में अपनी समस्या की अर्जी लगाते हैं और मन्नत पूरी होने पर भंडारा करवाते हैं। भंडारे में तीन प्रकार का प्रसाद मां को भेंट किया जाता है। इनमें प्रथम राज भोग जिसमें खिचड़ी का प्रसाद, दूसरा मोहन भोग जिसमें दूध से बने खीर का प्रसाद तथा तीसरा देवी भोग जिसमें हलवा-पूरी का प्रसाद भक्तों के बीच में बांटा जाता है। मंदिर में देश के कोने-कोने से भक्त आते हैं। इस गांव में भंडारे का काम नहीं रुकता। गांव वाले बाहर से आने वाले भक्तों की सेवा में लग जाते हैं।

 

यहां चैत्र नवरात्र में तीन माह पूर्व भक्त दो हजार जवारे बोता है। नवरात्र के अंतिम दिन जवारे का विसर्जन होता है। मां ज्वाला के मंदिर में निरूस्वार्थ भाव से जो भी भक्त आता है मां उसकी झोली अवश्य भर देती है। यहां पर भंडारे का आयोजन भी सभी के सहयोग से होता है।




जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
जय माता दी........नवरात्र के लिए मॉ दुर्गा की प्रतिमा को भव्‍य रूप देता कलाकार। फोटो - कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की