• राहुल गांधी कल जाएंगे सहारनपुर पीडि़तों से मिलने
  • कल घोषित हो सकते हें सीबीएसई के 12वीं के नतीजे
  • सहारनपुर हिंसा: गृह सचिव ने लोगों के घर-घर जाकर माफी मांगी
  • पीएम मोदी ने आज देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया
  • बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: आडवाणी समेत 6 नेताओं को CBI कोर्ट ने किया तलब
  • सहारनपुर में हिंसा के बाद धारा 144 लागू, इंटरनेट सेवा पर भी बैन
  • मोदी सरकार के 3 साल के जश्न में सहयोगी मुख्यमंत्रियों को न्योता नहीं- सूत्र
  • मैसूर ब्लास्ट केस में NIA ने फाइल की चार्जशीट

Share On

कैशलेस व्यवस्था में इंटरनेट सर्वर के नाम पर छेद

  • दुकानदारों की मनमर्जी से हो रहा है कार्ड से भुगतान
  • बेकरी  परचून की दुकानों पर अमूमन नहीं हो रहा भुगतान



 

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल


7 जनवरी, लखनऊ। 


प्रधानमंत्री से लेकर केंद्र सरकार कैशलेस व्यवस्था को प्रोत्साहन दे रही है लेकिन सरकार की उलट कारोबारी सरकार की योजना में पलीता लगा रहे हैं। इसका जरिया बन रही है कार्ड स्वाइप मशीनों से भुगतान होना। खास बात यह है कि जिस दिन बिक्री ज्यादा होती है, उस दिन तमाम दुकानोंरेस्त्रां में स्वाइप मशीन बंद हो जाती हैं। इससे कई बार तो असमंजस की स्थिति का सामना ग्राहकों को करना पड़ रहा है। मगर इस पर कोई निगरानी है कोई व्यवस्था।


अब जरा गौर करें। नए साल के पहले दिन प्राग नारायण रोड पर रहने वाले कृष्ण कुमार ने एक मशहूर बेकरी से केक आदि सामान लिया। भुगतान करने की बारी आई तो उन्होंने अपना डेबिट कार्ड दिया लेकिन दुकानदार ने इंटरनेट फेल होने की दलील देकर भुगतान नगद करने को कहा। ऐसा यहां पर शाम छह बजे से लेकर रात दस बजे तक चलता रहा। खास बात यह है कि इस बेकरी पर दो कार्ड इंटरनेट नेटवर्क दिक्कत बताकर नहीं काम कर रहे थे, वे इसी बेकरी के ठीक सामने स्थित मिठाई दुकान पर काम कर रहे थे। यही हाल हजरतगंज में रेस्त्रां में भी देखने को मिली। यहां पर लोगों से कार्ड पर भुगतान लेने में असमर्थता जारी की जाती रही। यह सिलसिला लगातार जारी है।


रेस्त्रां वसूल रहे हैं सर्विस टैक्स

सरकार कार्ड से भुगतान पर सर्विस टैक्स में छूट का दम भर रही है। सर्विस चार्ज को ग्राहक की इच्छा पर आधारित कर दिया गया है लेकिन सवाल यह है कि इससे फायदा क्या मिल रहा है। गोमतीनगर के माल में ही कार्ड से पेमेंट पर सर्विस चार्ज सेस वसूल किया जा रहा है। तमाम रेस्त्रां भी पहले की तरह से पंद्रह फीसद टैक्स वसूल रहे हैं। जबकि इसकी सुनवाई करने वाला कोई नहीं है।


उपभोक्ता फोरम में करें शिकायत

अगर कोई प्रतिष्ठान भुगतान संबंधी दिक्कत उत्पन्न कर रहा है या फिर आपसे निर्धारित कीमत से ज्यादा वसूली कर रहा है तो उसके लिए आप उपभोक्ता फोरम में शिकायत कर सकते हैं। लोगों की सुविधा के लिए उपभोक्ता फोरम द्वारा हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। होटल, रेस्त्रां में अगर सरकार के आदेश के बावजूद ज्यादा धन वसूला जा रहा है तो आप टोल फ्री नंबर 1800114000, 18001800300 पर मौखिक शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसके अलावा 8130009809 पर एसएमएस तथा सीओआरई.एनआइसी.इन पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इन शिकायतों को फोरम द्वारा संज्ञान में लेकर उस पर कार्रवाई की जाएगी।

 

 

Share On

 

अन्य खबरें भी पढ़ें

HTML Comment Box is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 

https://gcchr.com/

 

 



शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें