• वसंतकुंज और मालवीय नगर बिना कागजात के रह रहे 20 विदेशी पकड़े गए
  • एवरेस्‍ट पर चढ़ने के बाद गायब भारतीय रवि कुमार मृत पाए गए
  • सिख विरोधी दंगा मामले में जगदीश टाइटलर ने लाई डिटेक्‍टर टेस्‍ट कराने से किया इंकार
  • मुंबईः कॉकपिट से धुआं निकलने के बाद एयर इंडिया फ्लाइट की इमरजेंसी लैंडिंग, सभी यात्री सुरक्षित
  • लखनऊ: IAS अनुराग तिवारी की मौत के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR
  • कोयला घोटाला: पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता को 2 साल की सजा
  • PM मोदी की हत्या करने के लिए 50 करोड़ रुपये का ऑफर, विदेश से आई कॉल

Share On

यह समुदाय इंसानों को खाता है


अफ्रीकन आदिवासी

 


दि राइजिंग न्‍यूज


दुनियाभर के अलग-अलग हिस्सों में कई जनजातियां मौजूद हैंजो आज भी पूरी दुनिया के लिए किसी रहस्य से कम नहीं हैं। चाहे वो अफ्रीकन आदिवासी हों या फिर अमेजन की अलग-अलग जनजातियां। ऐसी ही एक रहस्यमयी जनजाति इंडोनेशिया के पापुआ प्रांत के घने जंगल में पेड़ों पर घर बनाकर रहने वाली कोरोवाई है। इस जनजाति को नरभक्षी भी कहा जाता है। नरभक्षी इसलिए क्‍योंकि इस समुदाय के लोग इंसानों तक को खा जाते हैं।

आपको बताएं पहली बार एक डच मिशनरी ने इस जनजाति की खोज सन् 1974 में की थीइससे पहले इनके बारे में कोई नहीं जानता था।

 

बाहरी दुनिया से कोई संपर्क नहीं

लोगों के आने जाने के बावजूद भी इस जनजाति से जुड़े लोगों का बाहरी दुनिया से कोई संपर्क नहीं है। ये लोग जमीन से छह से 12 मीटर ऊंचाई पर पेड़ों पर बने घरों में रहते हैंताकि इन पर कोई आक्रमण न कर सके और ये लोग बुरी आत्माओं से भी बचे रहें। इस जनजाति के लोग जीवनयापन करने के लिए शिकार करते हैं। इनका निशाना बहुत बेहतर होता है।

 

बता दें कि कोरोवाई जनजाति जिस क्षेत्र में निवास करती हैवो अराफुरा सागर से तकरीबन 150 किमी की दूरी पर स्थित है। इन लोगों पर कई डॉक्युमेंट्री भी बनाई गई है। ऐसा कहा जाता है कि इस जनजाति के लोग अंधविश्वास को बहुत मानते हैंजिसकी वजह इंसानों को भी खा जाते हैं।

 

Share On

 

अन्य खबरें भी पढ़ें

HTML Comment Box is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 

https://gcchr.com/

 

 



शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें