Crowd Rucuks At Sapna Chaudhary Program in Begusaray of Bihar

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

दादी-नानी जब परियों की कहानी बताती थीं तो हमें सच लगती थीं। बड़े होकर यह पता चला कि परियां असल में होती ही नहीं है, वह सब कहानियां कल्‍पना लगने लगी जो बचपन में हम उत्‍सुकता से सुना करते थे...लेकिन आज हम आपको ऐसा वाकया बताएंगे जिसे सुनकर आपको लगेगा कि यह महज कल्‍पना नहीं है, कुछ न कुछ तो जरूर होता है।

एक महिला ने दावा किया है कि वह एक परी से मिली है और उसने उस परी से बात भी की है।

छह साल की उम्र में मिली थी परी

महिला का नाम एवलिन है। उसका कहना है कि 1958 में जब वह छह साल की थी तब उन्हें दौरे पड़ने लगे थे। लगभग 60 साल के बाद एवलिन ने अब अपने अनुभव को एक वेबसाइट के साथ साझा किया है और बताया है कि मौत के मुंह में जाने के बाद कैसा लगता है।

एलविन बताती है जब वह छोटी थी तो उन्हें फ्लू हो गया था। इसके बाद उनकी तबियत तेजी से बिगड़ने लग गई थी और एवलिन को दौरे पड़ने लगे थे। यही वजह है जिसने एवलिन को मौत का अनुभव कराया जिसकी वजह से उन्हें एक परी से बात करने की अनुमति मिली थी।

एवलिन ने वेबसाइट को बताया कि वह कोमा में चली गई थीं। बकौल एवलिन उनके शरीर से रूह निकल गई थी लेकिन इससे बावजूद भी वह अपने आस-पास होने वाली गतिविधियों को देख पा रही थी। शरीर से रूह निकलने के बाद एलविन ने बताया कि कि मेरा शरीर अब किसी के गिरफ्त में नहीं था।

मौत के मुंह में जाने के बाद उन्होंने छत से ऊपर उठना शुरू कर दिया था। वह किसी और जगह जाने लगी। तभी कहीं से बहुत सारी रोशनी आई। एक लंबे बाल वाली महिला जिसने सफेद-नीली रंग का गाउन पहन रखा था करीब आई। उस महिला को देखकर लगा कि वह परी हो सकती है। हावभाव से वह बहुत दयालु लग रही थी।

उस महिला ने विचारों के माध्यम से मुझसे बात की। महिला के पीछे से रोशनी आ रही थी और मैं उस लाइट की तरफ खींची जा रही थी। कुछ ही क्षणों में मैंने भी उसकी तरह तैरना शुरू कर दिया। उस महिला ने मुझे रोक दिया और मेरे चारों ओर अपनी बाहों को फैला दिया। जो कि मुझे रोशनी और प्यार से भर रही थी।

उस महिला ने मुझसे कहा कि अभी आपका समय नहीं आया है। आपको वापस जाना होगा। मुझे पता था कि वह मेरे शरीर को पृथ्वी पर वापस जाने को कह रही थी। मैं पृथ्वी पर वापिस नहीं जाना चाहती थी। मुझे उसके साथ रहकर बहुत खुशी हो रही थी। 

मैंने उससे कहा कि मैं तुम्हारे साथ जाना चाहता हूं। उसने मुस्कुरा कर धीरे से मुझसे कहा कि “मुझे खेद है आपको वापस जाना होगा। आपके अभी समय नहीं हुआ। मैंने दुबारा उस महिला से कहा कि मैं तुम्हारे साथ रहना चाहती हूं।”

वह अभी भी मेरे चारों ओर अपनी बाहों को फैलाएं हुए थी और उसने चुपचाप कहा कि आप जब भी दुखी होंगी आपको मेरा चेहरा दिखेंगा।

कोमा से ठीक होने के बाद एलविन को लगता था कि वह किसी ऐसी जगह पर है जहां पर लोग सदमे में है। एवलिन को आज तक यह समझ नहीं आया कि वह रहस्यमय महिला कौन थी? उसका क्या मतलब था? उसके आस-पास से आने वाली रोशनी क्या दर्शाती थी?

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement