Actress Neha Dhupia on Her Pregnancy

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

कभी सुनी नहीं मगरमच्‍छ और इंसानों की दोस्‍ती...और दोस्‍ती भी हल्‍की फुल्‍की नहीं, बल्कि बेहद आत्‍मीय। एक अजीब सी अबूझ पहेली है पश्चिम अफ्रीका के बुर्किना फासो का यह गांव। जहां मगरमच्‍छ और इंसानों के बीच ऐसा रिश्‍ता है जैसे कि घर का ही कोई सदस्‍य।

 

राजधानी उआगाडुगो से तीस किलोमीटर दूर बाजोले गांव के निवासी अपना तालाब सौ से ज्यादा मगरमच्छों के साथ बांटते हैं। वहां के किसी भी व्यक्ति को बड़े-बड़े दांतों वाले इस जीव से बिलकुल डर नहीं लगता। वह मगरमच्छ को चिकन खिलाने के साथ उसके ऊपर बैठ और लेट भी जाते हैं।

गांव में रहने वाले पीएरे काबोरे कहते हैं, "बचपन से ही हमें मगरमच्छ के साथ तालाब में तैरने और खेलने की आदत हो गई थी। वह किसी को नुकसान नहीं पहुंचाते।" गांव की मान्यताओं के अनुसार 15वीं सदी से ही इंसान और मगरमच्छ की दोस्ती चली आ रही है। एक बार गांव में सूखा पड़ा था तब मगरमच्छों ने उन्हें छुपा हुआ तालाब दिखाया था।

 

उनके इस उपकार का धन्यवाद करने के लिए हर साल गांव वाले कूम लाकरे नामक उत्सव मनाते हैं। उत्सव के दौरान गांव वाले बलि देकर मगरमच्छ से खुशहाली की कामना करते हैं। माना जाता है कि कुछ बुरा होने पर मगरमच्छ रोते हैं और गांव वालों को आने वाले संकट का संकेत देते हैं। इंसान और मगरमच्छ का यह तालमेल दुनियाभर के पर्यटकों को इस गांव में खींच लाता है।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement