Actress Sunny Leone Will Be in Hollywood Wale Nakhre Song

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

धरती के दो-तिहाई हिस्से में समंदर ही समंदर है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि हम चांद के बारे में ज्यादा जानते हैं और समुद्र के बारे में कम। क्योंकि हम अभी सागर के सिर्फ 5 फीसदी हिस्से के बारे में ही जान पाए हैं। आज  हम आपके लिए लेकर आए हैं समंदर के ऐसे रहस्य जो अभी तक अनसुलझे हैं...

समंदर में कैसे बन गई ममी

दक्षिणी फिलीपींस में समुद्र तट के करीब एक लावारिस नाव मिली थी। इसमें जर्मन नाविक मैनफ्रेड फ्रिट्ज बेजोराट का शव टेबल पर बैठी हुई स्थित में मिला था। ऐसा लग रहा था मानो फ्रिट्ज अपने हाथ पर सिर रखकर सो रहे हों। उनकी लाश सड़ी नहीं थी, बल्कि ममी जैसी बन चुकी थी। हालांकि ऑटोप्सी के बाद साइंटिस्ट यह जानकर हैरान रह गए कि बेजोराट की मौत महज 7 दिन पहले हुई थी। कुछ एक्सपर्ट्स का अनुमान था कि समुद्र के नमकीन और सूखे वातावरण में रहकर लाश ममी बन गई। लेकिन कोई यह नहीं बता पाया कि जहां दूसरी लाशों के ममी बनने में लंबा समय लगता है, वहीं बेजोराट की लाश सिर्फ हफ्तेभर में वैसे कैसे बन गई।

 

शहर कैसे बसा?

जापान में योनागुनी के तट पर ऐसी संरचनाएं मिली हैं, जो किसी पुराने शहर का अवशेष लगती हैं। हालांकि विशेषज्ञ इस बारे में एकराय नहीं हैं। कुछ लोगों का मानना है कि ये कुदरती संरचनाएं हैं और अपने आप बनी हैं, जबकि कुछ का मानना है कि इन्हें इंसानों से इतर किसी अन्य सभ्यता ने बनाया है।

समुद्र तट पर कहां से आते हैं पैर?

कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया में सैलिश बीच पर इंसानी पैर मिलते रहे हैं। 2008 से शुरू हुए इस सिलसिले के तहत अब तक 16 पैर मिल चुके हैं। इनमें से कुछ पैरों में स्नीकर्स, हाई बूट और रेगुलर शूज भी थे। ये पैर वहां कैसे पहुंचते हैं, कोई उन्हें क्यों वहां छोड़ देता है और वे किसके पैर हैं, इन सारे सवालों का अब तक कोई जवाब नहीं मिल पाया है।

 

सी-मॉन्स्टर की हकीकत क्या है?

सदियों से किस्से-कहानियों और लोककथाओं में समुद्री दैत्यों का वर्णन मिलता है। बहुत सारे लोग इन्हें देखने का दावा भी करते हैं। माना जाता है कि ये भारी-भरकम, विशालकाय प्राणी समुद्र की गहराइयों में रहते हैं। सी-मॉन्स्टर्स ड्रैगन, सांप, स्क्विड्स किसी भी तरह के हो सकते हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement