Home Mysterious News This Village Is Known As Sleepy Hollow

इलाहाबादः BJP विधायक संजय गुप्ता की गाड़ी सीज करने वाले दरोगा सस्पेंड

PNB घोटाला: मेहुल चोकसी के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज की चार्जशीट

MP चुनाव: कांग्रेस को-ऑर्डिनेशन कमेटी के चेयरमैन नियुक्त हुए दिग्विजय सिंह

जोधपुरः 3 मंजिला इमारत ढही, मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

लालू प्रसाद आज शाम होंगे मुंबई रवाना, हृदय रोग का करवाएंगे इलाज

आखिर क्यों इस गांव को कहा जाता है “Sleepy Hollow”, आजतक नहीं उठा पर्दा

unsolved-mysteries | Last Updated : 2018-02-18 17:13:41

This Village is known as Sleepy Hollow


दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

इस संसार आए दिन कुछ न कुछ ऐसी रहस्यमयी घटनाएं घटित होती हैं जिसका कारण ढूंढने में वैज्ञानिकों को भी पसीना आ जाता है। ऐसी ही कुछ घटनाएं पिछले 4 साल से उत्तरी कजाकस्तान के कलाची गांव में हो रही है। यह गांव पिछले चार सालो से एक रहस्यमयी नींद की बीमारी से पीड़ित है। इस गांव में कोई भी कभी भी कुछ भी करते हुए अचानक से सो जाता है और उनकी ये नींद कुछ घंटों से लेकर कई महीनो तक जारी रह सकती है। इस रहस्यमयी नींद की बीमारी के चलते इस गांव को “Sleepy Hollow” कहा जाने लगा है।

2010 में हुई थी शुरुआत –

गांव में इस बीमारी की शुरुआत अप्रैल 2010 में हुई थी। तब से यह बीमारी लगातार बढ़ती जा रही है।  इस गांव की आबादी 600 है जिसमे  14 प्रतिशत आबादी इस बीमारी की चपेट में आ चुकी है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को कभी भी अचानक से नींद आ जाती है। कभी-कभी यह नींद कुछ घंटो की होती है जबकि कभी-कभी यह नींद महीनो तक चलती है। ऐसी ही एक घटना हाल ही में सितम्बर में घटित हुई, जब 8 बच्चे स्कूल की असेम्बली में इसी बीमारी के कारण गिर गए थे, तभी से ये बच्चे सो रहे है।

 

कारण है अज्ञात –

यह रहस्यमयी बीमारी क्यों और किस कारण से फ़ैल रही है, इसका वास्तविक कारण अभी तक वैज्ञानिको की पकड़ में नहीं आ सका है। अभी तक की जांच में यह पाया गया है की इस बीमारी से पीड़ित मरीजों के दिमाग में तरल पदार्थ की मात्रा बढ़ जाती है लेकिन एक सामान्य व्यक्ति के दिमाग में अचानक से यह तरल पदार्थ क्यों बढ़ जाता है इसका कारण अभी तक नहीं समझ आया है। डॉक्टर्स इसका एक मात्र कारण प्रदूषित पानी बताते है।

यूरेनियम खदान के पास है गांव –

कजाकिस्तान का यह गांव एक बंद हो चुकी यूरेनियम की खदान के पास स्तिथ है। जिसमे से ज़हरीला रेडिएशन होता रहता है। पर गांव में रेडिएशन की मात्रा कोई ख़ास ज्यादा नहीं है साथ हो डॉक्टर्स भी रेडिएशन को इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं मानते है। अप्रैल 2010 में पीड़ित प्रथम व्यक्ति को अब तक इस बीमारी का 7 बार अटैक हो चूका है और वो कुछ दिनों से महीनो की नींद सो चूका है।

 

इस प्रकार चार सालो की अथक कोशिशों के बावजूद वैज्ञानिक इस रहस्यमयी बीमारी का कारण और निदान नहीं खोज सके है।



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...