Bhojpuri Film Balamua Tohre Khatir Will Release on 31 August

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

भारत में मौजूद प्राचीन मंदिरों का रहस्य सुलझाना असंभव रहा है। इनके आगे विज्ञापन भी फेल रहा। ऐसा ही एक रहस्यमयी मंदिर आन्ध्रप्रदेश में है। यह भगवन शिव का मंदिर हैं, जिसे स्थापित करने की कहानी बेहद अजीब है।

ऋषि अगस्त्य करते थे आराधना

आन्ध्रप्रदेश के कुरनूल ज़िले में स्थित यागंती उमा महेश्वर मंदिर अपने अद्भुत रहस्यों के लिए प्रसिद्ध है। कहते हैं कि ऋषि अगस्त्य इस स्थान पर भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर बनाना चाहते थे। मंदिर में मूर्ति की स्थापना के समय मूर्ति के पैर के अंगूठे का नाखून टूट गया जिसका कारण जानने के लिए उन्होंने भगवान शिव की तपस्या की और उसके बाद उनके आशीर्वाद से ऋषि अगस्त्य ने यहां उमा महेश्वर की स्थापना की।

 

कहां से आता है पानी?

इस मंदिर में नंदी के मुख से लगातार पानी गिरता रहता है। बहुत कोशिशों के बाद भी आज तक कोई पता नहीं लगा सका की पुष्करिणी में पानी कैसे आता है। ऐसी मान्यता है कि ऋषि अगस्त्य ने पुष्करिणी में नहाकर ही भगवान शिव की आराधना की थी।

लगातार बढ़ रहे हैं नंदी

मंदिर के सामने स्थापित नंदी महाराज की मूर्ति का आकार लगातार बढ़ रहा है। भारतीय पुरातत्व विभाग के अनुसार मूर्ति हर साल बढ़ रही है, नंदी का आकार बढ़ने की वजह से मंदिर के संस्थापक एक खम्भे को भी हटा चुके हैं।

 

नहीं आते कौवे

मंदिर परिसर में कभी भी कौवे नहीं आते हैं। ऐसी मान्यता है कि तपस्या के समय विघ्न डालने की वजह से ऋषि अगस्त ने कौवों को यह श्राप दिया था कि अब कभी भी कौवे मंदिर प्रांगण में नहीं आ सकेंगे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll