Biker Died After Collision Between Him and  Zareen Khan Car

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस और परिवहन निगम की पिंक बसों में महिलाओं के मुफ्त सफर की सुविधा। जिनके लिए सेवा थी, उन्हें जानकारी नहीं थी मगर रोडवेज इसका खूब हल्ला कर रहा था। महिलाओं को एक महीने में एक ट्रिप सफऱ का कूपन दिया गया और फूल भेंट किया गया लेकिन चारबाग में बस पर महज सात सवारी ही बस में बैंठी। कैसरबाग बस अड्डे पर चार सवारियां मिली और गिनती 11 तक पहुंच गई। इसके आगे सात सवारी सीतापुर से थीं जिन्होंने अपने टिकट आनलाइन बुक कराए थे।

 

सवाल यह है कि फिर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर रोडवेज की इस सुविधा के बारे में लोग अंजान कैसे रहें। रोडवेज के मुस्तैद अधिकारियों की मेहरबानी ही कही जाएगी कि सात मार्च की रात तक इस तरह की किसी सुविधा के बारे में फैसला नहीं हो सका था। रात में इसका फैसला हुआ और उसके बाद जानकारी दी गईं। मगर तब तक बहुत देर हो चुकी थीं। खास बात यह है कि महिला दिवस के इस आयोजन की महिलाओं को ही जानकारी नहीं थीं। (देखें वीडियो) खास बात यह है कि यह पहला मौका नहीं था बल्कि इसके पहले रक्षाबंधन और महिला दिवस पर रोडवेज द्वारा महिलाओं के लिए मुफ्त सफर की घोषणा की जाती है लेकिन इस बार इस पर फैसला होने में देर ज्यादा कर दी गईं। लिहाजा जिनके लिए योजना –उपहार था, वहीं अंजान थें।

लीक पीट निपटा दी औपचारिकता

सात मार्च शाम तक महिला दिवस के मौके पर महिलाओं के लिए किसी उपहार योजना पर फैसला मुख्यालय स्तर पर ही तय नहीं था। यही नहीं, आनलाइन बुकिंग प्रणाली में भी कहीं इस तरह का प्रावधान नहीं था कि महिलाओं के टिकट बुकिंग में कोई रियायत या मुफ्त सफर का आपशन मिल रहा हो। विगत सात मार्च की रात अधिकारियों ने वाट्सएप के जरिए इसकी सूचना प्रचारित कीं। हालांकि अधिकारी अब इस बात की आड़ लेने की जुगत में लगे हैं कि आयोजन के संबंध में मीडिया में खबर सुबह से थीं। ऐसे में मुख्य सवाल यही है कि जो महिलाएं पहले ही टिकट बुक करा चुकी थीं, उन्हें क्या लाभ मिला।

 

सरकार की मंशा को ग्रहण

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महिला दिवस के मौके पर राजस्थान के झुंझुनू में थे तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महिला शक्ति के कार्यक्रम में। महिलाओं के सशक्तीकरण के दावे हो रहे थे और अपना रोडवेज केवल बेगारी टाल रहा था। रोडवेज ने पिंक सेवा के लिए महिलाओं को वापसी के लिए मुफ्त कूपन की जरूर घोषणा की थी लेकिन लाभ दर्जन भर महिलाओं को भी नहीं मिला। इसके अलावा बाकी सेवाओं में महिलाओं की बावत अधिकारियों सोचा न कोई व्यवस्था कीं। औपचारिकता के लिए कार्यालयों में जरूर आयोजन कर महिला दिवस मना लिया गया।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement