Pregnant Actress Neha Dhupia Shares Her Opinion on Pregnancy

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

रोडवेज प्रबंधन द्वारा फुलप्रूफ करार दी जाने वाली आनलाइन टिकटिंग व्यवस्था अब छलनी नजर आ रही है। आडिट रिपोर्ट आने के बाद अब दस लाख रुपये से अधिक के टिकट की हेराफेरी सामने आ रही है। खास बात यह है कि इसके पीछे रोडवेज में आईटीएमएस (एडवांस ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम) का काम देख रही संस्था ट्राइमैक्स के कर्मियों की मिलीभगत को माना जा रहा है। खास बात यह है कि आनलाइन टिकटिंग में चल रहे खेल का खुलासा पिछले महीने दि राइजिंग न्यूज ने किया था। उसके बाद से ही रोडवेज के अधिकारी तथा ट्राइमैक्स के प्रतिनिधि सर्वर की दिक्कत बताते हुए व्यवस्था को फुलप्रूफ करार दे रहे थे।

 

रोडवेज में टिकट की राशि में फर्जीवाड़ा किए जाने का मामला पिछले दिनों तब सामने आया था, अवध डिपो की बस में यात्रियों की गिनती कम कर कैश जमा कराने की बात सामने आयी। अप्रैल महीने में चल खेल धड़ल्ले से चल रहा था। खास बात यह है कि खेल के तहत पूरी भरी बस के डिपो पर पहुंचने पर साइबर कैफे पर उसकी गिनती बदल दी जाती और वास्तविक टिकट के मुकाबले कम ही टिकट दिखाए जा रहे थे। लाखों रुपये का यह खेल रोजाना चल रहा है। मामला खुला तब जब एक चालक ने इसकी शिकायत की लेकिन अधिकारियों की मेहरबानी से चालक को जरूर ड्यूटी हटा कर दूसरे मार्ग पर लगा दिया मगर मामले की जांच अब तक कोई नतीजा नहीं निकला।

इसके बाद मामला पिछले दिनों सामने आया, जब आनलाइन बने टिकट का पैसा रोडवेज खाते में नहीं आया। इस बावत रोडवेज मुख्य महाप्रबंधक एचएस गाबा ने बताया कि यह सर्वर के कारण हो जाता है लेकिन कुछ समय बाद पैसा रोडवेज के खाते में पहुंच जाता है। हालांकि मामले की गंभीरता को देखते हुए आडिट टीम को इसकी जांच सौंपी गई थी। आडिट टीम द्वारा की गई जांच में सामने आया कि गोरखधंधा पिछले कई महीनों से चल रहा था और इसमें रोडवेज को दस लाख से अधिक की चपत लग चुकी है। घोखाधड़ी के खेल में एक आईडी का इस्तेमाल होने की बात सामने आयी है। इस कारण से इसमें ट्राइमैक्स कंपनी के मुलाजिमों के शामिल होने की संभावना प्रबल हो गई है। हालांकि फिलहाल अधिकारी इस पर कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं।    

 

कंपनी द्वारा पहले सर्वर की सुस्ती के कारण एचडीएफसी बैंक के गेटवे से पेमेंट में देरी होने की दलील दी जा रही थी लेकिन आडिट में जो कमियां पकड़ी गई है, वह गंभीर हैं। इसके लिए विस्तृत जांच करने के साथ ही ट्राइमैक्स के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

एचएस गाबा

मुख्य महाप्रबंधक

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement