Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ। 

 

कहा जाता है कि एक तीर कई शिकार। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जनकपुर (नेपाल) से अयोध्या तक शुरु बस सेवा भी पार्टी के कारगर डिप्लोमेसी साबित होगी। जय श्री राम डिप्लोमेसी के जरिए भाजपा ने अपने हिंदुत्व एजेंडे को भी धार दे दी। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की ससुराल जनकपुर से अयोध्या तक सीधी बस सेवा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा थी। यह सेवा शुरु भी हो गई और स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनकपुर में बस सेवा के उद्घाटन के मौके पर पर मौजूद थे। यह सेवा भले सरकार की रामायण सर्किट को पूरा करने की कवायद माना जा रहा है। नेपाल स्थित जनकपुर से अयोध्या तक सीधी बस सेवा शुरु कर प्रधानमंत्री की लोकप्रियता में इजाफा तो हुआ ही भाजपा व सरकार इसके जरिए कई संदेश दे गई।

 

दरअसल जनकपुर अयोध्या बस सेवा शुरु होने तथा उद्घाटन में प्रधानमंत्री के मौजूद रहने से नेपाल व भारत के संबंध और प्रगाढ़ हुए हैं। साथ ही अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नेपाल व भारत की दोस्ती को नए आयाम दिए। इसके भी कई मायने हैं। दरअसल चीन पिछले काफी समय से नेपाल में अपनी स्थिति को मजबूत करने में लगा है। नेपाल में चीन की गतिविधियां बढ़ी हैं। भारत ने जनकपुर –अय़ोध्या सेवा के जरिए नेपाल को अपना करीबी बताकर विकास में सहभागी होने का विश्वास दिलाया। मकसद चीन की दखलंदाजी पर लगाम लगाना है।

हिंदुत्व कार्ड को दी धार

जनकपुर से अयोध्या के लिए बस सेवा शुरू कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा ने अपने हिंदुत्व एजेंडे को भी धार दे दी है। दरअसल अयोध्या मे राम मंदिर के निर्माण को लेकर मामला न्ययालय में है। ऐसे में जनकपुर –अय़ोध्या सेवा के जरिए भारतीय जनता पार्टी ने अपने परंपरागत हिंदू वोटो को साधने का प्रयास किया है। अगले साल 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं। सभी पार्टियां इसकी तैयारी मे लग गई है और भारतीय जनता पार्टी त्री इसमं कहीं पीछे नहीं है। माना जा रहा है कि रामायण सर्किट और जनकपुर अयोध्या बस सेवा पार्टी के लिए अगले साल होने वाले चुनाव में लाभदायी मुद्दा साबित हो सकते हैं। शायद यही कारण है कि जहां नेपाल के जनकपुर में बस सेवा उद्घाटन करने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व नेपाल के प्रधानमंत्री शामिल थे तो अयोध्या में  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या से बस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। दरअसल यह भावनात्मक मुद्दा उत्तर प्रदेश से लेकर देश सभी राज्यों में भाजपा की नैया पार करा सकता है, लिहाजा इसमें कोई कोरकसर भी नहीं रखी गई। 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll