Home rising at 8am Toxins In Apples And Fruits

चित्रकूट में डकैत बबली कोल के साथ मुठभेड़ में एक सब इंस्पेक्टर शहीद

तमिलनाडु: NEET में सुधार को लेकर चेन्नई में डीएमके का प्रदर्शन

सुप्रीम कोर्ट का फैसला- निजता है मौलिक अधिकार

निजता पर SC के फैसले को कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने बताया आजादी की बड़ी जीत

पंजाब रोडवेज ने हरियाणा जाने वाली अपनी सभी बसों के रूट रद्द किए

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

मुनाफे की खातिर सेब का मेकअप

     
  
  rising news official whatsapp number

  • ताजा दिखाने के लिए कर दी जाती है मोम की पालिश 
  • सेहत  बिगाड़ दे ये चमकदार लाल सेब

toxins in apples and fruits

दि राइजिंग न्यूज़

लखनऊ।

संजय शुक्ल

आपने वह मिसाल जरूर सुनी होगी, एन एप्पल डे, कीप्स डाक्टर अवे। मगर आप क्या आप जानते हैं कि बाजार में लाल-चमकदार दिखने वाले सेब असली नहीं हैं।  चौकिंए नहीं, दरअसल बाजार में लाललाल चमकदार दिखने वाले सारे सेब ताजा नहीं है बल्कि उनकी अच्छी कीमत के लिए उनका मेकअप किया जा रहा है। लोग अपनी सूरत-चेहरा संवारने के ले मेकअप कराते थे लेकिन बाजार में मुनाफा कमाने के लिए सेब सहित कई फलों को मोबिल या मोम लगाकर चमकाया जा रहा है। इससे यह फल एकदम ताजा दिखाई देते हैं।


दरअसल लोगों में सेहत स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ने के साथ ही फलों की बिक्री में भी खासा इजाफा हुआ है। बाजारों में तमाम देशी विदेशी फल बिक रहे हैं। थोक कारोबारी और कोल्ड स्टोरेज में इन फलों को सहेजने के लिए इनके ऊपर मोम की पालिश की जाती है। इससे ये फल कहीं ज्यादा चमकदार दिखने लगते हैं। अगर जल्दबाजी में आप इन सेब को बिना धोए खा लेते हैं तो सेब के साथ मोम भी आपके शरीर में पहुंच जाता है।


मोम से लेकर मोबिल तक का इस्तेमाल

फलोंसब्जियों के चमकाने के लिए कई तरह के पैराफीन (मोम) के अलावा वाहनों में डाला जाने वाला मोबिल तक इस्तेमाल किया जा रहा है। मगर खाद्य सुरक्षा विभाग को इसकी फिक्र तक नहीं है। सरकारी मशीनरी में की लचर प्रणाली का नतीजा है कि केवल फलों में पालिश नहीं बल्कि उन्हें कारबाइड से पकाया भी जा रहा है। फल कारोबारी भी मानते हैं कि इस बाजार में केला, आम आदि फलों को पकाया जा रहा है।


बेपरवाह प्रशासन

मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजय प्रताप सिंह बताते हैं कि पिछली बार सेब की जांच कराई गई थी, यह अलग बात यह कि जांच कितने समय पहले हुई थी, उन्हें ही याद नहीं है। यह हाल तब है जब सोशल मीडिया पर भी इस समय सेब पर जमी मोम पर्त दिखाई जा रही है। मगर अधिकारियों को इसकी फिक्र तक नहीं है। यही नहीं मुख्यमंत्री पान मसाला तंबाकू को लेकर सख्ती दिखा चुके हैं लेकिन खाद्य सुरक्षा विभाग तंबाकू को प्रतिबंधित बताकर उसकी जांच से पल्ला झाड़ लेती है। मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी तो सीधे तौर पर जांच से ही इंकार कर देते हैं।

"फलों पर मोम की कोटिंग की जांच कराई जाएगी। इसके निर्देश मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी को दे दिए गए हैं। सोमवार के बाद इसकी जांच कराई जाएगी।"

शशि पांडेय

मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी (अभिहीत)  


यह भी पढ़ें

राष्ट्रपति चुनाव 17 जुलाई को

बेटी का शव लेकर भटकती रही पीड़िता

योगी के नेता की धमकी, इस्‍लाम अपना लूंगा

बीजेपी विधायक की ट्रैफिक पुलिस से दबंगई, देखें वीडियो


जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
धार्मिक आस्था- सर्प का दुग्धाभिषेक | फोटो- कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की