Irrfan Khan Writes an Emotional Letter About His Health

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

चारबाग स्थित गुरुनानक कांप्लेक्स में दुकान के विवाद में हुई व्यापारी की हत्या हो या फिर आशियाना में बैट्री कारोबारी की हत्या लेकिन व्यापार मंडल का सारा ध्यान केवल अपनी गोट सेटिंग तक ही सिमट गया है। आलम यह है कि दो दिन में दो व्यापारियों की हत्याओं के बावजूद लखनऊ व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने पुलिस कप्तान से लेकर विधायक तक को सम्मानित किया। वह भी इस दलील के साथ कि सम्मान का कार्यक्रम को पहले तय कर लिया गया था और हत्याएं बाद में हुई। जबकि व्यापार मंडल के अध्यक्ष राजेंद्र अग्रवाल के मुताबिक यह सम्मान समारोह का आयोजन दवा कारोबारियों का था और उन्होंने सूचित किया गया था बाकी लखनऊ व्यापार मंडल का इससे कोई सरोकार ही नहीं है। अलबत्ता वह सम्मान समारोह में वह कैबिनेट मंत्री व एसएसपी के साथ फोटो खिंचाते जरूर नजर आएं।

दरअसल चारबाग गुरुनानक मार्केट में व्यापारी मुकेश मनवानी की सरेआम हत्या लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह दुआ नामजद हैं। इस घटना में दो आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए लेकिन व्यापार मंडल के वरिष्ठ उपाध्यक्ष फिलहाल फरार बताए जा रहे हैं। खास बात यह है कि मृत मुकेश मनवानी राजेंद्र सिंह दुआ के खिलाफ चल रहे एक मुकदमे में गवाह थे। इस काऱण से पूरा मामला सुनियोजित कत्ल की तरह दिखाई देता है। घटना के बाद रविवार को आशियाना में बैट्री कारोबारी संजय कन्नौजिया की शुक्रवार को रंजिश में जमकर पिटाई की गई थी। रविवार को उसकी भी मौत हो गई। दो दिन तक लकीर पीट रही राजधानी की मुस्तैद पुलिस की नींद तब टूटी जब आशियाना में मृत संजय के परिवार वाले शव के साथ प्रदर्शन करने लगे। नाराज लोगों ने आगजनी और बवाल भी किया। जब जाकर पुलिस ने जेल रोड निवासी मुख्यारोपी जितिन कश्यप को गिरफ्तार कर लिया। 

पुलिस की मुस्तैदी का यह ताजा नमूना है। इसके पहले श्रवण साहू हत्याकांड की जांच कर रही सीबीआइ ने पुलिस की मुस्तैदी की बखिया उधड़े कर रख दी है। मगर व्यापारी को पुलिस की मुस्तैदी बहुत भा रही है। यही कारण है कि दवा कारोबारियों ने केमिस्ट एसोसिएशन ने चोरी का खुलासा होने पर पुलिस को सम्मानित कर डाला। खास बात यह है कि लखनऊ व्यापार मंडल के कई पदाधिकारी भी इसमें शामिल रहें। ट्रांसगोमती क्षेत्र हो या फिर कपड़ा व्यापार मंडल। व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री अमरनाथ मिश्रा ने कहा कि सम्मान का समारोह केमिस्ट एसोसिएशन ने तय किया था। वह लखनऊ व्यापार से सम्बद्ध संगठन है और इस कारण उसे भवन भी दिया गया।

 

सम्मान सहित सेटिंग

 

समारोह में जारी प्रेसनोट में व्यापार मंडल पदाधिकारियों ने दावा किया कि यह सम्मान वर्ष 2005 से व्यापारियों के हित में काम करने वाले पुलिस कर्मियों को प्रोत्साहित करने के लिए किए जा रहे हैं। सवाल यह है कि पिछले दो सालों में यह सम्मान हर बार सवालों में रहे हैं। कारण है कि पुत्र की हत्या के प्रकरण की पैरवी करने वाले श्रवण साहू की नृशंस हत्या का मामला हो या ट्रांसगोमती क्षेत्र में ताबड़तोड़ चोरियों का। पुलिस के सामने छद्म विरोध जता कर सुर्खियां बटोरने वाले कारोबारियों की हकीकत इसमें खुल जाती है। शायद यही कारण है कि आशियाना और चारबाग में हुई व्यापारियों की हत्या के बाद व्यापार मंडल के कथित बड़े नेता निंदा करने से भी बचते रहें। व्यापारियों की पुलिस के साथ जोड़तोड़ का नमूना श्रवण साहू हत्याकांड के बाद विरोध में दिखाई दिया था।

"व्यापारियों की हत्याएं होने के बाद इस तरह के आयोजनों से परहेज किया जाना चाहिए। अब जो सक्रिय व्यापारी राजनीति कर रहे हैं, यह उनका फैसला है और इससे व्यापार मंडल की छवि प्रभावित होती है।"

हरिश्चंद्र अग्रवाल

संरक्षक, लखनऊ व्यापार मंडल

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

The Rising News

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll