Box Office Collection of Raazi

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

  

परिवहन विभाग में 27 एआरटीओ के स्थानांतरण की विवादित सूची पर भले अभी कोई अमल न हुआ हों लेकिन 13 एआरटीओ की नई सूची जरूर जारी हो गई। खास बात यह है कि दूध का जला छाछ भी फूंक कर कर पीता है वाली मिसाल इस बार सूची में तमाम अधिकारी ऐसे हैं जो वर्षों से एक ही मंडल-क्षेत्र में जमे थे, उन्हें दूरदराज का रास्ता दिखा दिया गया है।

 

 

दरअसल, पहले स्थानांतरित किए गए 27 एआरटीओ में 25 फीसद ही नई तैनाती पर पहुंच पाएं, उसके बाद से पुराने अधिकारी अपनी जगह जमे हैं। स्थानांतरित अधिकारी भी कुर्सी खाली होने की राह ताक रहे हैं। नई सूची आने के बाद अब पुरानी 27 एआरटीओ के स्थानांतरण की नई सूची भी जल्द आने की संभावना है। पिछली दो स्थानांतरण सूची में जिस तरह से मानकों का पालन किया गया है, उससे पुरानी सूची में जोड़-तोड़ करने में कामयाब अधिकारियों की नींद उड़ी हुई है।

 

 

परिवहन विभाग में 13 सहायक संभागीय अधिकारियों की स्थानांतरण सूची मंगलवार को जारी हो गई थी। खास बात यह रही कि इस सूची में अधिसंख्य वही अधिकारी हैं, जो सालों से एक ही क्षेत्र या जोन में जमे हुए थे। जबकि इसके पूर्व जारी सहायक संभागीय परिवहन अधिकारियों की सूची में जोड़ तोड़ साफ झलक रहा था।

दशकों से एक ही जोन-मंडल में तैनात अधिकारियों के रस्म अदायगी के तौर पर जिले भर बदल दिए गए थे। दो अधिकारी ऐसे थे, जिन्हें स्थानांतरित कर दिया लेकिन उन्हें कहीं तैनाती ही नहीं दी गई। सूची जारी होने के बाद कई अधिकारी आनन-फानन चार्ज लेने भी दौड़ पड़ें।

 

मामला जब शासन के पास पहुंचा तो यह सूची मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा तलब कर ली गई। उसके बाद से ही इस सूची में फेरबदल किए जाने की बातें सामने हो रहीं हैं। खास बात यह है कि इस पूरे खेल में कई अधिकारी ऐसे हैं जो अपनी कुर्सी तो छोड़ आए लेकिन नई भी उन्हें नहीं मिल पाई है। यही नहीं, विभाग ने भी स्थानांतरित अधिकारियों के लिए कोई आदेश नहीं जारी किया गया।

 

 

क्लर्कों के तबादलों में माथापच्ची

27 एआरटीओ के स्थानांतरण चर्चित सूची जारी होने के बाद सुर्खियों में आया परिवहन विभाग अब तबादलों को लेकर खासी मशक्कत कर रहा है। विभाग में इस समय सबसे बड़ी चुनौती दशकों से एक ही कार्यालय में जमे संभागीय निरीक्षकों (आरई) और बाबुओं का स्थानांतरण है। इसके लिए अधिकारी भी मशक्कत कर रहे हैं।

 

शासन से लेकर परिवहन आय़ुक्त मुख्यालय तक स्थानांतरण सूची का कई चरणों में परीक्षण किया जा रहा है। एआरटीओ की पुरानी रिवाइज्ड सूची के साथ आरआई तथा बाबुओं की स्थानांतरण सूची भी एक-दो दिन में आ जाने की संभावना है।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll