Home Rising At 8am Reality Of Roadways Buses In Lucknow City

प्रिंस विलियम और केट मिडलटन बने माता पिता, बेटे का जन्म

हमें उम्मीद है आने वाले समय में कुछ नक्सली सरेंडर करेंगे: महाराष्ट्र DGP

दिल्ली: मानसरोवर पार्क के झुग्गी-बस्ती इलाके में लगी आग

कांग्रेस का लक्ष्य है "हम तो डूबेंगे सनम तुम्हें भी साथ ले डूबेंगे": मीनाक्षी लेखी

कावेरी जल विवाद: विपक्षी पार्टियों का मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रदर्शन

बिना बीमा दौड़ रही रोडवेज की बसें

Rising At 8am | 03-Apr-2018 | Posted by - Admin

 

  • पंद्रह साल से नहीं कराया गया बीमा

  • प्रीमियम अधिक होने के कारण बंद हो गया बसों का बीमा

   
Reality of Roadways Buses in Lucknow City

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

प्रदेश भर में फर्राटा भर रहीं रोडवेज की हजारों बसें बिना बीमा के ही चल रही हैं। खस्ता हाल खटारा बसें और उनमें रोज जान जोखिम में डालकर सफर करते मुसाफिर। मगर हादसा हो तो केवल रोडवेज का निर्धारित मुआवजा। खास बात यह है कि दोपहिया वाहन से लेकर व्यावसायिक वाहनों तक का बीमा होना नियमानुसार अनिवार्य है लेकिन रोडवेज में बसों का बीमा करीब पंद्रह साल पहले हुआ था और उसके बाद से बीमा हुआ ही नहीं। यानी बसें बिना किसी बीमे की ही संचालित हो रही है। अधिकारियों का कहना है कि बसों का बीमा कराए जाने के कारण हर वर्ष प्रीमियम करोड़ों रुपये देने होते हैं जबकि बसों में डैमेज से ज्यादा आपरेशनल गड़बड़ियां होती है और उनकी प्रतिपूर्ति क्षेत्र की आय से कर ली जाती है।

 

रोडवेज मुख्यालय के अधिकारियों के मुताबिक बसों का बीमा करीब 15 साल पहले वर्ष 2003 में हुआ था। उसके बाद किसी तरह का बीमा नहीं कराया गया। इसकी मुख्य वजह प्रीमियम पर हर वर्ष होने वाला व्यय ही था। घाटे से बचने के लिए बीमे के प्रावधान को ही समाप्त करा दिया गया। उसके बाद बसों का बीमा नहीं कराया जा रहा है। रोडवेज के मुख्य महाप्रबंधक एचएस गाबा के मुताबिक बसों का बीमा कराने पर उसका प्रीमियम काफी ज्यादा होता है। यह राशि करोड़ों रुपये में पहुंचती है। इसके अलावा अन्य मदों में भी प्रीमियम लगता है। बसों के संचालन में आपेरशनल डैमेज ही ज्यादा होता है यानी टूट –फूट आदि। हादसें में किसी मौत या फिर पूरी बस डैमेज होने पर भी ज्यादा प्रतिपूर्ति राशि की अदायगी करनी पड़ती है। इसी से बचने के लिए बसों में बीमा नहीं कराया जा रहा है। बसों के संचालन में होने वाली खामियों को दूर करने के लिए बस अथवा संबंधित क्षेत्र -डिपो की आय से ही उसकी प्रतिपूर्ति कर ली जाती है। इससे निगम पर वित्तीय बोझ भी कम हो जाता है।

एक महकमा दो व्यवस्था

रोडवेज प्रबंधन भले ही अपनी बसों का बीमा न होने की दलील देता है लेकिन वहां पर ही संचालित अनुबंधित बसें बीमित हैं। खास बात यह है कि अनुबंध के समय के निजी बस संचालकों से वाहनों के बीमे की प्रति ली जाती है। सवाल यह है कि एक विभाग में दो तरह की बसों में दो तरह नियम कैसे लागू हो रहे हैं। अनुबंधित संचालन से जुड़े जसपाल सिंह के मुताबिक ठेके पर अनुबंधित वाहनों के लिए बीमा अनिवार्य रहता है। यह राशि निजी बस मालिक अदा करता है जबकि रोडवेज यात्रियों से प्रति टिकट / किमी के आधार पर थर्ड पार्टी बीमा राशि की वसूली करता है। हादसे अथवा दुर्घटना के वक्त उसी से पीड़ित को भुगतान कर दिया जाता है।

 

वाहन का बीमित होना अनिवार्य

परिवहन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक मोटरयान नियमावली के मुताबिक किसी भी वाहन का बीमा होना अनिवार्य है। वाहन का बीमा होने पर उसके ऊपर जुर्माने का भी प्रावधान है। अधिकारियों के मुताबिक रोडवेज बसों का बीमा नहीं है, यह अपने आप में जांच का विषय है। किस आधार पर वाहनों को बीमे से मुक्त किया गया है। इस बावत रोडवेज प्रबंधन से जानकारी ली जाएगी। 

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555







TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion

Loading...




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news