Home Rising At 8am Reality Of High Court Order In Front Of Politicians

प्रिंस विलियम और केट मिडलटन बने माता पिता, बेटे का जन्म

हमें उम्मीद है आने वाले समय में कुछ नक्सली सरेंडर करेंगे: महाराष्ट्र DGP

दिल्ली: मानसरोवर पार्क के झुग्गी-बस्ती इलाके में लगी आग

कांग्रेस का लक्ष्य है "हम तो डूबेंगे सनम तुम्हें भी साथ ले डूबेंगे": मीनाक्षी लेखी

कावेरी जल विवाद: विपक्षी पार्टियों का मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रदर्शन

समरथ को नहीं दोष गुंसाई

Rising At 8am | 12-Apr-2018 | Posted by - Admin

 

  • गांधी प्रतिमा पर एकत्र मुस्लिम महिला महासभा की कार्यकर्ता हटाईं गईं

  • 24 घंटे में ही निकल गई हजरतगंज में प्रदर्शन-धरने पर रोक की हवा

   
Reality of High Court Order in Front of Politicians

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

हजरतगंज में धरने-प्रदर्शन पर रोक, प्रशासन और पुलिस 24 घंटे भी कायम नहीं रख सकीं। दरअसल बुधवार को ही हजरतगंज में धरना प्रदर्शन पर रोक लगा दी गई थी। इसके साथ ही छोटे धरने के लिए लक्ष्मण मेला पार्क तथा अधिक लोगों के लिए ईको गार्डेन को चिन्हित किया गया। मगर यह रोक एक दिन भी नहीं चल सकीं। गुरुवार को सुबह से ही हजरतगंज चौराहे के नजदीक स्थित पटेल प्रतिमा के सामने भारतीय जनता पार्टी के नेता उपवास करने पहुंच गए। नेताओं की खिदमत में सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता भी पहुंच गए। उनके वाहन सड़क पर लग और इसके चलते घंटों ट्रैफिक भी प्रभावित रहा।

खास बात यह है कि इसके पड़ोस मे ही गांधी प्रतिमा पर भी कुछ लोग धरना –प्रदर्शन करने पहुंचे थे। यहां पर बहुजन मुस्लिम महासभा की महिलाओं का धरना था लेकिन मुस्तैद पुलिस ने उन्हे वहां से नियम का हवाला देते हुए हटवा दिया मगर बगल में उपवास रख धरना दे रहे भाजपा नेताओं के नजदीक पहुंच पुलिस महज तमाशबीन बन गई। वहां पर तैनात एक पुलिस उपनिरीक्षक ने धरना आदि पर प्रतिबंध की बावत पूछा गया तो वह मुस्कराते हुए वहां चलते बनें। इसके बाद पूरी शिद्दत के साथ प्रदेश के कानून मंत्री बृजेश पाठक, मंत्री स्वाति सिंह, अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा सहित तमाम नेता लोकतंत्र की रक्षा के लिए उपवास करते दिखें। मगर एक दिन पहले बने नियम की धज्जियां उड़ती रहीं।

सरकारी खिदमत में पुलिस

उन्नाव की घटना में यूपी की मुस्तैद पुलिस की कार्यशैली और उसके गुरुवार सुबह दुराचार में आरोपित विधायक को माननीय बताने वाले डीजीपी के आचरण को लेकर विपक्ष यूं ही मुखर नहीं है। दरअसल हजरतगंज में भी गुरुवार को पुलिस का कुछ यही चेहरा देखने को मिला। दोपहर करीब 12 बजे के करीब पटेल प्रतिमा के बगल के पार्क में गांधी प्रतिमा के नजदीक कुछ लोग धरने पर बैठे थे लेकिन मुस्तैद पुलिस डंडा फटकारती पहुंच गई। धरने पर बैठे लोगों को नियमों का हवाला देकर तत्काल हटने का आदेश दे दिया गया। यही नहीं, वहां न हटने पर उन्हें खदेड़ने की भी धमकी दे डाली गई। खास बात यह रही यही पुलिस कर्मी बगल में पहुंचे तो सत्तारुढ़ पार्टी के नेताओं के बगल पहुंच कर अपनी पक्की करने में जुटे रहें। नेता जी भी उनका अभिवादन स्वीकार करते हुए नजरों ही नजरों मं आशीर्वाद देते नजर आएं। इन लोगों के पुलिस सारे नियम खुद ही भूल गई।

घंटों बाधित होता रहा ट्रैफिक

पटेल प्रतिमा के समक्ष सत्तारुढ़ पार्टी के उपवास के चलते तमाम नेताओं की गाड़ियां सड़क पर ही कैपिटल के सामने मुख्य मार्ग पर खड़ी रहीं। अतिव्यस्त मार्ग पर इन गाड़ियों के कारण ट्रैफिक फंसता रहा लेकिन पुलिस को केवल गांधी प्रतिमा के समक्ष मौजूद महिलाएं ही दिंखी। बगल में धरना दे रहे भाजपा के मंत्री –कार्यकर्ता नजर ही नहीं आए। हालांकि बाद में मीडिया के कुरेदने पर पुलिस ने सड़क पर खड़े वाहनों को जरूर कतारबद्ध करा दिया लेकिन उपवास रख बैठे भाजपा नेताओं के आसपास फटकने की भी जहमत नहीं उठाई।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555







TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion

Loading...




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news