Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्‍यूज

शैलेंद्र सिंह

लखनऊ।

 

सीबीएसई पेपर लीक मामले में कोचिंग सेंटर की संदिग्‍ध भूमिका होने के बावजूद सरकार और प्रशासन किस तरह उदासीन है इसका ताजा उदाहरण रविवार को देखने को मिला। लो‍क सेवा आयोग पर एनडीए के पेपर से पहले ही परीक्षा केंद्र के पास की सड़कें कोचिंग सेंटर के बैनर-पोस्‍टर्स से पट गईं। मंशा महज इतनी कि किसी तरह छात्रों को आकर्षित करके अपनी कोचिंग में पढ़ने के लिए बुलाया जा सके।

विज्ञापनों में ही खेल

सामान्‍य बच्‍चों को रिझाने के लिए कोचिंग सेंटर अपने पोस्‍टर्स और बैनर के माध्‍यम उनको भ्रमित कर रहे हैं। खास बात यह है कि हर कोचिंग अपने टॉपर बच्‍चों की फोटो लगाकर उनकी रैंक दिखाकर छात्रों को आकर्षित कर रही हैं। आलम यह है यह खेल सरकार की नाक के नीचे से राजधानी लखनऊ से लेकर पटना चल रहा है और सरकार इस पर कुछ नहीं कर पा रही है।  

 

लीक हुए थे सीबीएसई बोर्ड के पेपर

गौरतलब है कि हाल ही में सीबीएसई द्वारा आयोजित बोर्ड परीक्षा में दसवीं के गणित और 12वीं के अर्थशास्त्र विषयों के पेपर लीक हो गए थे। इस मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर किया था। गिरफ्तार किए गए लोगों में एक कोचिंग सेंटर का मालिक और अन्य दो टीचर थे।

हालांकि सीबीएसई ने दोनों पेपर्स को दोबारा करवाने का ऐलान किया है। 12वीं के अर्थशास्त्र का पेपर 25 अप्रैल को होगा। वहीं, दसवीं के गणित के पेपर को दोबारा करवाने पर अभी विचार किया जा रहा है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll