Actress Neha Dhupia on Her Pregnancy

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

फरवरी में होने वाले दो दिवसीय इनवेस्‍टर मीट को लेकर राजधानी में जोर-शोर से तैयारियां की जा रही हैं। एक ओर जहां दीवारों को रंग-बिरंगे चित्रों से सवांरा जा रहा है तो वहीं पुराने शहर को भी व्‍यवस्थित किया जा रहा है। अमौसी एयरपोर्ट से लेकर इंदिरागांधी प्रतिष्‍ठान तक शासन-प्रशासन के अधिकारी लगातार देख-रेख कर रहे हैं। कहीं से होर्डिंग हटाई जा रही हैं तो कहीं डिवाइडरों को रंगा जा रहा है। सड़क से लेकर लाइट, चौराहों से लेकर फुटपाथ को भी संवारा जा रहा है।

 

 

हालांकि इतना सब होने के बाद भी चौक के नक्‍खास और अमीनाबाद में काफी कुछ किया जाना शेष है। ये वो जगहें हैं जिन्‍हें शहर का शो केस कहा जाता है। बाहर से आने वाला हर व्‍यक्ति चौक और अमीनाबाद जरूर जाना चाहता है। चौक की धरोहरें और अमीनाबाद का बाजार अपने नाम के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। 

 

 

विदेशी मेहमानों के लिए एयरपोर्ट से इंदिरागांधी प्रतिष्‍ठान तक का पूरा रूट नए कलेवर में रंगा जा रहा है। वह चाहे शहीद पथ की दीवारों पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, लखनऊ के ऐतिहासिक इमारतों, राष्‍ट्रीय पक्षी, व अन्‍य ऐतिहासिक पुराधाओं के चित्रों से सजाया जा रहा है। गोमतीनगर, हाईकोर्ट, हजरतगंज, इंदिरागांधी प्रतिष्‍ठान, सहित कई जगहों पर डिवाइडरों की डेंटिंग-पेंटिंग की जा रही है। शहर का लुक खराब कर रहे होर्डिंग को हटाने के लिए इन्‍हें अवैध घोषित किया जा चुका है। भवन स्‍वामियों को स्‍वत: हटाने का समय दिया गया है, लेकिन ऐसा ना होने पर कठोर कार्रवाई के आदेश भी दिए गए हैं।

 

 

 

हेरिटेज जोन घूमने आने वालों के लिए नक्‍खास बाजार अपने आप ही आकर्षण का केंद्र बन जाता है। यहां पर लगने वाला चिड़िया बाजार अपने आप में अनूठा है। तमाम तरह की रंग-बिरंगी चिडि़यों को देखने और जानने के लिए विदेशी मेहमान यहां का रूख कर सकते हैं। हालांकि फुटपाथ पर कब्‍जा किए दुकानदारों के कारण यहां पर लगने वाला जाम भी जग जाहिर है। इसी तरह घंटाघर के आसपास दर्जनों बसें नो पार्किंग एरिया में खड़ी रहती हैं लेकिन यह बसें किसकी हैं और क्‍यों खड़ी रहती हैं, यह किसी को नहीं पता। इन सबके बीच अतिथियों के लिए बेहतर माहौल उपलब्‍ध कराना भी जिला प्रशासन के लिए चुनौती से कम नहीं है।

 

 

हालांकि एडीएम पश्चिम संतोष कुमार वैश्‍य के मुताबिक फुटपाथ को खाली कराए जाने की योजना बन चुकी है। जल्‍द ही इस पर कार्रवाई भी होगी और खड़ी बसों को भी हटाया जाएगा।

 

 

 

सामान्‍य दिनों में अमीनाबाद जाने का मतलब है कि बिना जाम से जूझे घर वापसी संभव नहीं है और यदि छुट्टी के दिन जाना हो तो यह मामला और भी गंभीर हो जाता है। पहले से ही संकरे रास्‍तों पर लगने वाली दुकानों के कारण सड़क पर निकलने के लिए जगह नहीं बचती है। अब इसमें से इधर-उधर लगने वाली अवैध पार्किंग और बड़ी दुकानों के सामने लगाए छोटी दुकानें। बात चाहे अमीनाबाद थाने के सामने की हो या फिर झंडे वाले पार्क के आसपास की। इतना ही नहीं प्रकाश कुल्‍फी के पास बनी चौकी के आसपास तो बाइक-कार और दुकानों की लाइन लगी रहती है। पार्क के सामने स्‍टेशनरी की दुकानें तो सजने लगीं, लेकिन यह शाम होते-होते बिल्‍कुल सड़क पर आ जाती है। पावर हाउस और पोस्‍ट ऑफिस के आसपास पीली लाइन खींची गई थी। इस लाइन के बाहर दुकानें लगनी थीं, लेकिन लाइन मिट जाने के कारण दुकानदार पूरी सड़क पर कब्‍जा जमाए रहते हैं। जिससे सड़क पर चलना दूभर हो गया है।

 

 

 

देखकर मक्‍खी निगल रहा एलडीए-

विदेशी मेहमानों के लिए जहां हेरिटेज जोन को संजाने संवारने का काम शुरू किया गया है तो वहीं लखनऊ विकास प्राधिकरण देखकर मक्‍खी निगल रहा है, क्‍योंकि हेरि‍टेज जोन में शुमार घंटाघर से महज कुछ ही दूरी पर एक के बाद एक अवैध अपार्टमेंट बनकर तैयार हो रहे हैं। जबकि हेरिटेज जोन में 100 मीटर के आसपास कोई भी निर्माण नहीं हो सकता है। इसके बाद भी प्राधिकरण के अधिशासी अभियंता और अवर अभियंता कोई भी कार्रवाई नहीं कर पाए। हाल यह रहा कि मच्‍छी भवन के पास विभाग द्वारा ही सील किया गया अवैध निर्माण भी खुल गया और अधिकारियों को जानकारी तक ना हो पाई। फिलहाल एलडीए के होनहार अभियंता इन अवैध निर्माणों पर कार्रवाई करने से संकोच कर रहे हैं। यही कारण है कि अवैध निर्माण को अपने आप ही संरक्षण मिलता जा रहा है। यह हाल तब है जब इनवेस्‍टर मीट को लेकर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ खुद ही मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

 

 

 

 

“इनवेस्‍टर मीट को लेकर तैयारियां तेजी से की जा रही हैं। विदेशी अति‍थियों को बेहतर माहौल देने के लिए लगातार प्रयास हो रहे हैं। हे‍रिटेज जोन में जहां पर भी गलत पार्किंग हो रही है उसे सही किया जाएगा और दोबारा अतिक्रमण ना हो सके इसके लिए मॉनिटरिंग की व्‍यवस्‍था की जाएगी। अवैध रूप से खड़ी हो रही बसें तत्‍काल बाहर होंगी। साथ ही साफ-सफाई से लेकर दीवारों में लगे विज्ञापन भी हटेंगे।”

संतोष कुमार वैश्‍य

एडीएम, पश्चिम

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement