Actress Neha Dhupia on Her Pregnancy

दि राइजिंग न्यूज 

अमित सिंह

लखनऊ।

 

सीने में जलन आँखों में तूफान सा क्यों है, इस शहर में हर शख्स परेशान सा क्यूं हैं . .

 

वैसे तो मुजफ्फर अली का शेर आजकल वैसे भी मौजूं है। पहले इसी शेर के जरिए दिल्ली की आबोहवा को लेकर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री पर तंज कसा था लेकिन उसे दरकिनार कर दें तो राजधानी में भी हालात कमोबेश वैसे ही है। अंतर सिर्फ इतना है कि दिल्ली को लेकर पूरे देश हाय तौबा मची है जबकि राजधानी शासन –प्रशासन नगरीय निकाय चुनाव में व्यस्त है। ऐसे में प्रदूषण का खामियाजा राजधानी वासी भोग रहे हैं। हालांकि बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अब हरकत में आया है।

राजधानी एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) में प्रदूषक तत्वों के बढ़ते घनत्व के चलते अब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भारी वाहनों से लेकर विभिन्न निर्माण प्रोजेक्ट की निगरानी तथा आवश्यकता अनुसार उन पर कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए हैं। नगर निगम को दिए गए निर्देश में क्षेत्रीय प्रदूषण अधिकारी डा. रामकरन ने एनसीसी लिमिटेड हरिहर नगर, पार्थ अर्थ शहीद पथ, सूरज बिल्डर शहीद पथ, चिन्मय कांट्रैक्टर सुल्तानपुर रोड, रेमकी इंफ्रास्ट्रक्चर, न्यू सीएसआई टावर चक गजरिया तथा एलएनटी द्वारा हो रहे निर्माणों के कारण बढ़ते प्रदूषण व धूल को देखते हुए नोटिस जारी की है। बोर्ड इनके प्रोजेक्टों को रोकने या फिर प्रदूषण कम करने के लिए व्यापक इंतजाम करने के आदेश दिए हैं।

इसी तरह से नौ बिल्डरों के निर्माणधीन साइट का निरीक्षण करने के निर्देश नगर निगम व संबंधित विभागों को दिए गए हैं। इनके कारण बड़ी मात्रा में धूल –सीमेंट उड़ रही है, जो वातारण को प्रदूषित कर रही है।

 

ओवरलोडिंग पर लगाम लगाने के निर्देश

 

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने शहीद पथ, रिंग रोड तथा आईआईएम रोड पर ओवरलोड वाहनों के कारण होने वाले प्रदूषण पर भी चिंता जाहिर की है। इसके लिए संबंधित विभागों को यहां पर ओवर लोड वाहनों पर अंकुश लगाने के निर्देश दिए गए हैं। ताकि वायु के प्रदूषण को रोका जा सकें।

गली गली में बालू के गुबार

 

राजधानी के प्रदूषण में इजाफे के गली मोहल्लों में हो रहे अवैध निर्माण भी जिम्मेदार बन रहे हैं। हर इलाके में धड़ल्ले से निर्माण चल रहे हैं। खास बात यह है कि गली मोहल्लों में हो बन रहे अवैध अपार्टमेंट –कांप्लेक्स में  निर्माण सामग्री दूर दराज गिरवाई जा रही है। वह सड़क पर खुली पड़ी रहती है और उसके बाद अन्य छोटे वाहनों या जानवरों के जरिए गलियों तक पहुंचाया जा रहा है। इस कारण प्रदूषण कहीं ज्यादा हो रहा है

सक्रिय हुआ प्रदूषण विभाग

 

क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी डा. एखलाख ने बताया कि प्रदूषण के बढ़ते स्तर के मद्देनजर विभाग की टीमों को भी विभिन्न क्षेत्रों में निरीक्षण के लिए भेजा गया है। इस संबंध में जिलाधिकारी, आवास विकास, नगर निगम तथा लखनऊ विकास प्राधिकरण को नोटिस भेजे जा चुके हैं। इसके बाद भी प्रदूषण नियंत्रित करने के इंतजाम  किए हो रहे निर्माण स्थान या प्रदूषण फैला रहे वाहन आदि मिलते है तो उन्हें जब्त कर दिया जाएगा।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement