Biker Died After Collision Between Him and  Zareen Khan Car

दि राइजिंग न्‍यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

चौक की चिग्घीबाजी और राजनीति अक्सर कहने सुनने में मिलती है लेकिन अब तो चौक चौराहा ही एक अलग राजनीति की मिसाल बन गया है। कारण है कि चौक चौराहे पर बने पार्क में नया फौव्वारा लग रहा है और उसका उद्घाटन भी गत 24 अक्टूबर को हो गया। खास बात यह कि इस चौराहे पर होने वाले उद्घाटन में गृहमंत्री राजनाथ सिंह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पूर्व सांसद लालजी टंडन से लेकर विधायक नीरज बोरा तक का नाम अंकित है। चौराहे पर सौंदर्यीकरण कराने से लेकर फौव्वारे लगाने तक का श्रेय नगर निगम को मिला है। इसी बोर्ड से महज एक दो मीटर बगल में एक दूसरा बोर्ड है। इस बोर्ड पर ऐतिहासिक चौक की पुनर्वास योजना के अंतर्गत निर्मित नवीन चौक के विभिन्न कांप्लेक्स का लोकार्पण तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह और लखनऊ के सांसद रहे अटल बिहारी वाजपेयी का नाम दर्ज है। सवाल यह है कि यह कैसी चौराहे की राजनीति है। इसमें किस तरह के विकास को दिखाया गया है।

 

सवाल यह है कि  लखनऊ  विकास प्राधिकरण के बाकी पार्क व चौराहों के प्रति भी नगर निगम का रवैया इस तरह का क्यों नहीं है। एलडीए निर्मित बाजार हो या फिर पार्क नगर निगम इसे अपने दायित्व क्षेत्र के बाहर का बताकर पल्ला झाड़ लेता है। लिहाजा उनकी देखरेख तक एलडीए के जिम्मे ही रहती है। मगर चौक चौराहा अब इसकी मिसाल बनता दिख रहा है। क्षेत्रीय लोगों के मुताबिक उद्घाटन के वक्त भी पहले बने चौराहे पर नया पत्थर लगाए जाने का कुछ नेताओं व लोगों ने विरोध भी किया था और उस वक्त पत्थर हटवा दिया गया था लेकिन मामला ठंडा पड़ने पर उसे बगल में लगवा दिया गया।

जल्दबाजी की वजह

चौक चौराहे के सौंदर्यीकरण का काम अभी चल रहा है। केवल यहां फौव्वारे का काम पूरा हुआ है लेकिन इसका उद्घाटन करीब दो महीने पहले ही करा दिया गया था। सवाल यह भी खड़ा होता है कि आखिर इस जल्दबाजी की वजह क्या थीं। सड़क पर चारों तरफ पत्थरों की घिसाई के कारण धूल उड़ रही है लेकिन तमाम निर्देशों के बावजूद आजतक यहां प्रदूषण कम करने के लिए पानी का छिड़काव नहीं हुआ। चौराहे पर पर ही चारों तरफ वाहनों की पार्किग बनी रहती है। एक तरफ इसे ऐतिहासिक चौक क्षेत्र करार दिया जाता है तो दूसरी तरफ सत्तारुढ़ पार्टी के नेताओं के करीबी ही गोलदरवाजे की ऐतिहासिक बिल्डिंग में छेड़छाड़ कर रहे हैं। सबकुछ नगर निगम और एलडीए तथा प्रशासन के संरक्षण में हो रहा है लेकिन रोकने की हिम्मत किसी में नहीं है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement