Director Kalpana Lajmi Passed Away

दि राइजिंग न्यूज़

संजय़ शुक्ल

लखनऊ।

 

आनलाइन शापिंग साइटों पर आकर्षक आफरों के कारण किफायत के नाम पर दुकानों के बजाए आनलाइन सामान लेने वाले उपभोक्ता लगातार बढ़ रहे हैं।

 

वस्त्र कारोबार में भी आनलाइन कारोबार काफी बढ़ गया है। इसमें करीब पांच फीसद का इजाफा हुआ है और अब करीब 13 फीसद रेडीमेड वस्त्र आनलाइन ही बिक रहे हैं।

 

आनलाइन के बढ़ते कारोबार के साथ ही अब बहुराष्ट्रीय कंपनियां भी तेजी से बाजार में उतर रही हैं। व्यापारी नेताओं के मुताबिक बाजार में करीब 63 प्रतिशत हिस्सेदारी बहुराष्ट्रीय कंपनियों तथा आनलाइन ट्रेड की हो चुकी है। वालमार्ट और फ्लिपकार्ट की डील के बाद रिटेल बाजार में इसका व्यापक असर दिखने की आशंका जाहिर की जा रही है। कारण है कि इन स्टोर पर सामान बाजार के मुकाबले कुछ सस्ता जरूर होगा। इस कारण लोगों का रुझान बढ़ना स्वाभाविक है। मगर इससे देश के परंपरागत रिटेल कारोबार संकट में दिखने लगा है। कुछ साल पहले वैश्विक मंदी के दौर में भारत पर इसका आंशिक असर ही दिखा था। उसकी वजह यहां का खुदरा बाजार ही था। मगर अब सीधे मल्टीनेशनल कंपनियों के बाजार में आने से कारोबार में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है।

 

उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल के अध्यक्ष एवं कंफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स के चेयरमैन संजय गुप्ता के मुताबिक इन मल्टी नेशनल कंपनियों के कारण खुदरा बाजार बहुत प्रभावित हुआ है। कई कंपनियां होलसेल व्यापार का लाइसेंस लेकर खुलीं लेकिन वहां पर भी खुदरा कारोबार हो रहा है, वह भी उनकी अपनी शर्तों के आधार पर। सरकार का उन पर किसी तरह का नियंत्रण नहीं है। यही नहीं तमाम कंपनियां तो अपने यहां के उत्पादों का वजन –कीमत तक अपने हिसाब से प्रिंट कराते हैं और इस कारण से बाजार में वह सहजता से नहीं मिलता। जबकि उपभोक्ता को लगता है कि वह सस्ता सामान खरीद रहा है। 

 

सरकार की नाक के नीचे गोरखधंधा

व्यापारी नेताओं का कहना है कि सारा गोरखधंधा सरकार की नाक के नीचे चल रहा है। कंपनियां अपने हिसाब से कारोबार कर रही है और शर्त तय कर रही है। बल्क पर्चेसिंग होने के कारण कंपनियां भी उनके मुताबिक उत्पाद तैयार करती है, जो बाजार में उपलब्ध नहीं होता। पैकिंग पर छपी कीमतों के हिसाब से आफर भी होते हैं। इससे सहजता से आम उपभोक्ता धोखा खा  जाता है।

 

दो आंदोलन शुरू करेंगे व्यापारी

उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल ने वालमार्ट –फ्लिपकार्ट डील को रद करने की मांग करते हुए दो जुलाई से आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी है। संगठन के अध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा कि दो जुलाई देश भर में एक हजार स्थानों पर व्यापारी विरोध प्रदर्शन कर वित्तमंत्री, प्रधानमंत्री तथा राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन देंगे। उन्होंने कहा कि वालमार्ट –फ्लिपकार्ट डील से खुदरा बाजार को खासा नुकसान होगा। व्यापार मंडल इसका मुखर विरोध करेगा।

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement