Box Office Collection of Raazi

दि राइजिंग न्यूज़

संजय शुक्ल

लखनऊ।


राजधानी में शनिवार को हुई पहली मूसलाधार बारिश के बाद सरकारों का विकास उतराता मिला। आठ अरब रुपये से अधिक खर्च कर समाजवादी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट हुसैनाबाद सौंदर्यीकरण में भ्रष्टाचार की ईंटें धंस गई। बारिश का लुत्फ उठाने निकले कई लोग चोटिल होते बचें। वहीं डालीगंज अंडर पास के नीचे पांच फीट तक पानी भर गया। रोडवेज की बसें भी इस पानी में फंस गई और पुराने शहर से नए शहर के बीच संपर्क ही कट गया। दोपहर से दिखना शुरू हुई विकास यह तस्वीर रात तक जारी रही औऱ लोगों को अपने घरों तक पहुंचना मुश्किल हो गया।



शनिवार को राजधानी में करीब दो घंटे हुई लगातार बारिश से राजधानी में ड्रेनेज सिस्टम की कलई तो खोल ही दी, साथ ही सरकारी योजनाओं के नाम पर जनता के धन की बंदरबांट भी सामने आ गई। करीब तीन हजार रुपये वर्गफुट की दर से बनवाई काबल स्टोन रोड पच्चीस मीटर तक उधड़ गई। इसमें आधा फीट से ज्यादा गहरे ग़डढे हो गए। जिसके कारण वाहनों का निकलना मुश्किल हो गया। बारिश के दौरान अचानक ही सड़क उधड़ने के कारण कई लोग दुर्घटना ग्रस्त होते बचे। बाद में आसपास के लोगों गड्ढों में मिट्टी भरी और बांस –पटरे लगाकर उसे बंद किया। हालांकि आठ अरब के खर्च के बाद तैया इस हेरीटेज जोन की दुर्दशा देखने के लिए लोगों की भीड़ यहां शाम तक जमा रहीं।




विकास की दूसरी तस्वीर डालीगंज पुल पर देखने को मिली। यहां पर डालीगंज अंडरपास के नीचे पांच फीट ऊंचाई तक पानी लग गया। रोडवेज की बस भी छत डूब गईं। बस में फंसे यात्रियों की चीख पुकार मचने पर आसपास के लोगों ने खिड़कियों से यात्रियों को बाहर निकाला। उसके बाद रोडवेज की दो बसें पानी में फंस गई। इसके बाद यह अंडरपास बंद हो गया। अंडर पास बंद हो जाने के कारण डालीगंज चौराहे से शहीद स्मारक तक लंबा जाम लग गया। वाहनों का लंबी कतार लग गई।


विकास के तमाम दावें की हकीकत सिटी स्टेशन रेलवे पुल के नीचे भी दिखी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  भले ही सत्तर फीसद सड़कों के गड्ढे भर दिए जाने का दावा करके वाहवाही बटोर रहे हैं लेकिन कम से कम यह एक ऐसा स्थान हैं, जहां सालों से मलबा सड़क पर बहता है। शनिवार को बारिश के बाद यह पर भी एक फीट पानी और सीवर भर गया। उसके बीच खुले मेन होल और टूटी स़ड़क से वाहन लोगों का निकलना मुश्किल हो गया। जैसे तैसे लोग काफी मशक्कत कर यहां से निकलते दिखे। डालीगंज पुल पर लगे जाम के कारण इधर से गुजरने वाले वाहनों की संख्या काफी बढ़ गई और रात तक लोग इस जाम से जूझते रहें।


ये है भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टालरेंस


हुसैनाबाद हेरीटेज जोन में हुए निर्माण कार्य में अनियमितता व घोटाला पहले ही सामने आ चुका है। स्वयं आवास मंत्री इस बात से अवगत हैं कि काबल स्टोन के नीचे कंक्रीट के स्थान पर बालू भर गई है। इसकी जांच रिपोर्ट भी मुख्यमंत्री के पास पहुंच चुकी है लेकिन इसमें कार्रवाई अभी तक सिफर ही है। यही नहीं, कमी मिलने के बाद उसे दुरुस्त कराने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है। इस सरकार की मंशा पर सवालिया निशान लगने लगे हैं।

 

कट गया सिस व ट्रांसगोमती शहर


डालीगंज पुल, सिटी स्टेशन छत्ता और कुड़िया घाट पुल का खदरा की ओर खुलने वाला मार्ग शनिवार को अपरान्ह तीन बजे बंद हो गया। शनिवार होने के कारण अपरान्ह तीन बजे के बाद ही सड़क पर वाहनों की संख्या बढ़ने लगी थी, लिहाजा चारों तरफ जाम लग गया। इस कारण डालीगंज से चौक तक पहुंचना ही मुश्किल हो गया। यह सिलसिला देर रात तक जारी रहा।


ट्रैफिक पुलिस गायब, नगर निगम भूमिगत


खदरा पुल, डालीगंज चौराहा, मेडिकल कालेज, हुसैनाबाद हर तरफ वाहनों की कतार लंबा जाम मगर उससे निपटने के लिए उंगली पर गिनने भर को सिपाही। लिहाजा जाम से जूझते लोगों के साथ सवारी वाहन चालकों ने जमकर अभद्रता की। लोगों से बदसलूकी होती रही लेकिन ट्रैफिक पुलिस कर्मी दूर से ही ट्रैफिक का संचालन कराते रहें। 


यह भी पढ़ें

इससे फनी सोशल मीडिया रिएक्‍शन नहीं देखे होंगे आपने

मोदी-ट्रंप एक सुर में बोले- आतंक का खात्‍मा करेंगे

सरकारी योजनाओं के लिए यूज़ हो सकता है आधार: सुप्रीम कोर्ट

तेलंगाना में 15000 करोड़ का जमीन घोटाला, माइक्रोसॉफ्ट-गूगल भी फंसी

राम मंदिर निर्माण पर अंतिम फैसला नवंबर में

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll