Home rising at 8am Matter Of Illegal Construction Of Building

चित्रकूट में डकैत बबली कोल के साथ मुठभेड़ में एक सब इंस्पेक्टर शहीद

तमिलनाडु: NEET में सुधार को लेकर चेन्नई में डीएमके का प्रदर्शन

सुप्रीम कोर्ट का फैसला- निजता है मौलिक अधिकार

निजता पर SC के फैसले को कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने बताया आजादी की बड़ी जीत

पंजाब रोडवेज ने हरियाणा जाने वाली अपनी सभी बसों के रूट रद्द किए

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

डीएम कस्टोडियन फिर भी अवैध निर्माण

     
  
  rising news official whatsapp number

  • जिलाधिकारी आवास के पचास मीटर दूर हजरतगंज में हो गया निर्माण
  • शत्रु संपत्ति के ठीक बगल में है बिल्डिंग

matter of illegal construction of building

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल 

लखनऊ।


प्रदेश में भ्रष्टाचार का तंत्र कितना मजबूत है, इसका प्रत्यक्ष उदाहरण हजरतगंज है। हजरतगंज में पीएमजी दफ्तर के सामने स्थित बिल्डिंग में भी दूसरे तल पर एक हॉल का निर्माण हो गया। बीच बाजार पर्दा डालकर हुए इस निर्माण को किसी ने नहीं देखा। खास बात यह है कि यह बिल्डिंग शत्रु संपत्ति में आती है और इसके रिसीवर खुद जिलाधिकारी हैं। सवाल यह है कि फिर निर्माण कैसे हो गया है।


दरअसल, हजरतगंज बाजार में शत्रु संपत्ति के अधीन आने वाली कई बिल्डिंग हैं और इनका विवाद भी चल रहा है। इनके स्वामित्व का विवाद भी न्यायालय में विचाराधीन है और वर्तमान में यह सारी बिल्डिंगें जिलाधिकारी के अधीन है। अर्थात जिलाधिकारी ही उसके कस्टोडियन हैं। बावजूद इसके कारोबारियों ने मुख्य बाजार में ही स्थित बिल्डिंग में दूसरे तल पर हॉल का निर्माण हो गया।


खुली आंखों में धूल झोंकने का प्रयास


खास बात यह है कि हजरतगंज बाजार मे बनी तमाम बिल्डिंग करीब सौ साल पुरानी हैं। इस कारण से नया निर्माण कराते समय भी परदा लगाकर जो निर्माण कराया गया, उसे पुराने जैसा ही दर्शाने का प्रयास किया गया है। यहां तक कि भवन में खिड़की दरवाजे का डिजाइन कर्व भी पुराने जैसे बनाए गए हैं। ताकि आसानी से नए और पुराने का अंतर समझ में आए।


छेड़छाड़ पर है प्रतिबंध


शत्रु संपत्ति के अधीन आने वाली इमारतों मे किसी तरह की छेड़छाड़ प्रतिबंधित है। यहां तक कि जीर्णोद्धार के लिए जिलाधिकारी से अनुमति लेना अनिवार्य है। बावजूद इसके प्रभावशाली दुकानदारों ने यहां निर्माण करा लिया। वह भी खुलेआम।


रोक दिया गया था शोरूम का काम


करीब दो साल पहले इसी बिल्डिंग में स्थित पैंटालून शोरूम में छत के ऊपर डिजाइनिंग का काम कराया जा रहा था। इसकी जानकारी होते ही तत्कालीन जिलाधिकारी राजशेखर ने इसे रुकवा दिया था और निर्माण होते मिलने पर कंपनी के खिलाफ मुकदमे तक की चेतावनी दी थी।


एलडीए अभियंताओं का खेल


हजरतगंज बाजार में व्यावसायिक प्रतिष्ठान के  ऊपर हुए निर्माण में भी एलडीए अभियंताओं की भूमिका बताई जा रही है। सूत्रों के मुताबिक सारा निर्माण एलडीए के क्षेत्रीय अभियंताओं की मिलीभगत से ही कराया गया।


 

इसकी जानकारी फिलहाल नहीं है लेकिन जिसने भी निर्माण कराया है, उसके खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी और प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। इसमें एलडीए अभियंताओं की संलिप्तता मिली तो उन पर कार्रवाई की जाएगी।

कौशलराज शर्मा

जिलाधिकारी


यह भी पढ़ें

सैनिक कर सकते हैं तीन महिलाओं के साथ रेप

हिलेरी और ट्रंप के बीच हुई  बहस

जीका वायरस का अगला शिकार भारत 

भारत का पड़ोसी देश, देश की सुरक्षा के लिए ख़तरा

बिहेवियरल मार्केटिंग: अश्लील विज्ञापनों से परेशान हो गए कनपुरिये!

23 साल बाद क्‍या एक होंगे बुआ-बबुआ!



जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
धार्मिक आस्था- सर्प का दुग्धाभिषेक | फोटो- कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की