Director Kalpana Lajmi Passed Away

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल  

लखनऊ।

बिजली चोरी रोकने तथा लोगों की सुविधा में प्रीपेड विद्युत कनेक्शन को लेकर सरकार से लेकर पावर कार्पोरेशन तमाम दावे करता है लेकिन हकीकत में लोगों को प्रीपेड कनेक्शन लेने में पसीने छूट रहे हैं। राजधानी में कई विद्युत वितरण खंडों में प्रीपेड मीटर उपलब्ध न होने की दलील दी जा रही है तो कहीं स्थायी कनेक्शन ही लेने के लिए उपभोक्ताओं पर दबाव बनाया जा रहा है।

दरअसल राजधानी में बिजली चोरी वाले क्षेत्रों तथा अस्थायी प्रतिष्ठान, किराए के आवासों  में प्रीपेड कनेक्शन लगाने की योजना कई साल पहले बनाई गई थी। इसका मुख्य कारण था कि तमाम बाजारों में बड़े संख्या में पटरी दुकानें लगती है और उनमें कटिया के जरिए बड़े पैमाने पर बिजली की चोरी होती है। इसके अलावा जो लोग किराए के घरों में रहते हैं और उनके आवास अस्थायी हैं, उनके लिए प्रीपेड मीटर की व्यवस्था की गई थी। मगर लेसा में प्रीपेड मीटरों को लेकर हमेशा से ही किल्लत बनीं रही। योजना को पटरी दुकानों पर लगने वाली कटिया के जरिए होने वाली होने बिजली चोरी को रोकने के मकसद से बनी थी लेकिन राजधानी में निशातगंज से लेकर अमीनाबाद और रिंग रोड से लेकर नरही तक गिनी चुनी दुकानों पर बिजली कनेक्शऩ हैं। वहां कटिया बदस्तूर लग रही है।

पीक टाइम में 25 फीसद बिजली चोरी

राजधानी में शाम को पांच से आठ के बीच करीब 25 फीसद बिजली चोरी जा रही है। कटिया के जरिए हर दिन करीब 15 हजार दुकानें रोशन हो रही हैं। खास बात यह है कि ये पटरी बाजार व अस्थायी दुकानें हर इलाके में लगती है। सातों दिन किसी न किसी क्षेत्र में साप्ताहिक बाजार लगता है लेकिन लेसा के अभियंता इनके जरिए केवल अपने जेब भरते हैं। कहने के लिए बिजली चोरी को रोकने के लिए लेसा के पास विजलेंस टीमें भी है लेकिन शाम पांच बजे के बाद यह विजलेंस दस्ते भी आंख मूंद लेते हैं। यानी दफ्तर बंद और बिजली चोरी की छूट। वैसे भी विजलेंस की कार्रवाई हमेशा ही सवालों के घेरे में रही हैं।

शाम से रात तक होगी जांच

लेसा के मुख्य अभियंता प्रदीप कक्कड़ ने बताया कि राजधानी में तमाम बाजारों में पटरी दुकानें कटिया लगाकर चलती है। इसकी शिकायतें भी हैं। इसके लिए अब विजलेंस टीम के साथ देर शाम व रात को जांच की जाएगी। बिजली चोरी करने वालों को रंगे हाथ पकड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रीपेड मीटर पर्याप्त संख्या में उपलब्ध हैं। जो लोग प्रीपेड कनेक्शन के लिए आ रहे हैं, उन्हें कनेक्शन दिए जा रहे हैं।

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement