Actress Sunny Leone Will Be in Hollywood Wale Nakhre Song

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

आगरा एक्सप्रेस वे पर कन्नौज के नजदीक तेज रफ्तार रोडवेज बस ने सोमवार को इंजीनियरिंग के नौ छात्रों को रौंद दिया। हादसे में सात लोगों की मौत हो गई जबकि दो की हालत गंभीर बनी हुई है। दर्दनाक सड़क हादसे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी दु:ख व्यक्त करते हुए मामले की प्राथमिकी दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं, लेकिन सवाल यह है कि रोडवेज बसों के हादसे थम क्यों नहीं रहे? आखिर सड़क पर खड़े छात्रों को बस चालक ने क्यों नहीं देखा? एक बार फिर जांच का दम भरा जा रहा है लेकिन रिपोर्ट आएगी या नहीं, यह कोई नहीं जानता।

इस साल गुजरे पांच महीने दस दिन में रोडवेज बसों के तीस से ज्यादा हादसे हुए। यानी हर महीने करीब छह हादसे। इनमें वे हादसे नहीं शामिल हैं जिनमें बस ने किसी वाहन को ठोकर मार दी। मगर इतने हादसों के बावजूद किसी भी घटना में चालक की गलती नहीं मिली न ही उसकी रिपोर्ट सामने आई। दरअसल, रोडवेज में जांच का भी खेल चल रहा है। जांच के नाम पर अधिकारियों को कमाई का जरिया मिल जाता है, लिहाजा रिपोर्ट भी दबा दी जाती है।

करीब दो महीने पहले बाराबंकी में मुसाफिरों के बताने के बावजूद तेज रफ्तार दौड़ाने और आग लगने की घटना हो या फिर वातानुकूलित बस के पलटने के कारण कई लोगों को घायल होने का मामला। दोनों ही घटनाओं में जांच के आदेश तो हुए, लेकिन कार्रवाई किसी को नहीं मालूम। खास बात यह है कि कन्नौज में हुए हादसे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ट्वीट तो आ गया, लेकिन परिवहन विभाग हादसे कई घंटे बाद यह तय नहीं कर पाया था कि बस रोडवेज की अथवा किसी प्राइवेट ऑपरेटर की।

कागजी आदेश हकीकत में सिफर

रोडवेज बसों के हादसों को कम करने के मकसद से बसों में स्पीड गवर्नर लगाने के आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिए थे। इन आदेशों को 16 महीने से अधिक समय गुजर चुका है, लेकिन स्पीड गवर्नर लगाने का काम अभी राम भरोसे है। रोडवेज के मुख्य महाप्रबंधक (प्राविधिक) जयदीप वर्मा के मुताबिक कुछ क्षेत्रों में स्पीड गवर्नर लगाए जा रहे हैं। छह हजार से अधिक बसों में स्पीड गवर्नर लगाए जाने हैं। मगर जिस रफ्तार से स्पीड गवर्नर लगाए जा रहे हैं, उससे यह काम पूरा कब होगा, यह भी अपने आप में सवाल है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement