Sonam Kapoor to Play Batwoman

दि राइजिंग न्यूज़

संजय शुक्ल

लखनऊ।

सिटी मांटेसरी स्कूल की चौक शाखा में लोगों के करोड़ों रुपये के गबन और अवैध मनी लांड्रिंग के मामले में अब नया मोड़ आ गया है। मोड़ इस कारण क्योंकि इस मामले में अब स्कूल प्रबंधन की ओर से भी पूर्व प्रधानाचार्या के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी गई है। इस प्राथमिकी को स्कूल प्रबंधन द्वारा पूरा मामला जानकारी में आने के करीब एक साल बाद दर्ज कराया गया है। इसके पहले स्कूल के संस्थापक प्रबंधक जगदीश गांधी इस संबंध में पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह को पत्र भेजने की बात कह कर सारी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे थे। अब पूरे प्रकरण के करीब 11 महीने बाद स्कूल प्रबंधन ने पूर्व प्रधानाचार्या के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी है।

 उल्लेखनीय है कि चौक शाखा की पूर्व प्रधानाचार्या साधना बेदी के खिलाफ कई पीड़ितों ने भी मुकदमा दर्ज कराया है। इसकी शिकायत मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल पर भी की गई है। दो लोगों ने इस मामले में न्यायालय में वाद दर्ज कराया है। स्कूल के खिलाफ रिपब्लिकन सोशलिस्ट पार्टी के पीड़ितों के साथ खड़े होने के बाद से ही मामला तूल पकड़ता जा रहा है। ऐसे में अब स्कूल प्रबंधन की ओर से ओएसडी ने भी पूर्व प्रधानाचार्या एवं काल्विन ताल्लुकेदार्स कालेज के प्रधानाचार्या की पत्नी साधना बेदी के खिलाफ लोगों का पैसा स्कूल के नाम पर लेकर धोखाधड़ी करने का मुकदमा दर्ज करा दिया है। खास बात स्कूल के ओएसडी द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमें लोगों से पैसे का लेनदेन करने वाले स्कूल के सहायक शीतला सहाय को भी नामजद किया है।

 

खास बात यह है कि सिटी मांटेसरी स्कूल ने गत वर्ष जून 2017 में साधना बेदी को  प्रधानाचार्या पद से बर्खास्त कर दिया था। इस बावत एक अखबार में छोटा से विज्ञापन भी दिया गया। यही नहीं, जिन अध्यापिकाओं के जरिए ऋण लिया गया था, उन्हें अंयत्र शाखाओं में स्थानांतरित कर दिया। पैसे के लेनदेन से सीधे तौर पर जुड़े शीतला सहाय को मुख्यालय से सम्बद्ध कर लिया गया। इसके अलावा स्कूल प्रशासन ने अपने प्रभाव का पूरा इस्तेमाल करते हुए इस संबंध में गत वर्ष जुलाई –अगस्त में पूर्व डीजीपी सुलखान सिहं को पत्र देकर प्रधानाचार्या द्वारा स्कूल के लेटर हेड व मोहर का इस्तेमाल कर फ्राड करने की जानकारी दी लेकिन प्राथमिकी दर्ज नहीं कराई। पीड़ित जब स्कूल प्रबंधन के पास पहुंचे तो उन्हें पुलिस में रिपोर्ट कराने की नसीहत देकर वापस कर दिया गया। उसके बाद से इस मामले को दबाने के लिए पूरा प्रयास किया जा रहा था।

पिछले दिनों इस मामले ने तूल पकड़ना शुरू किया और स्कूल के सामने धरना प्रदर्शन हुआ। काफी मशक्कत के बाद गबन और अवैध मनी लांड्रिंग के मामले में करीब दस महीने बाद पहला मुकदमा दर्ज हुआ। हालांकि उसके बाद दो पीड़ित कोर्ट पहुंच गए जबकि अन्य लोगों ने ठाकुरगंज थाने पर प्राथमिकी दर्ज कराने का प्रयास किया तो उन्हें पूर्व दर्ज एफआईआर में शामिल करने का तर्क मिल रहा है। दूसरी तरफ ठाकुरगंज थाने के निरीक्षक दीपक दुबे ने बताया कि मामले की पड़ताल की जा रही है। साक्ष्य संकलन हो रहा है और प्राथमिकी दर्ज हुई है तो कार्रवाई भी अवश्य होगी।

तेज हुई लामबंदी

दूसरी तरफ सिटी मांटेसरी स्कूल चौक शाखा में हुई धोखाधड़ी के पीड़ितों की लामबंदी तेज हो गई है। इनमें लोग अब पुलिस का सहयोग न मिलने के कारण न्यायालय के जरिए अपनी प्राथमिकी दर्ज कराने की तैयारी में हैं। दो पीड़ितों द्वारा कोर्ट जरिए प्राथमिकी दर्ज करा दी है। पीड़ित लोग अब मामले में आरोपित प्रधानाचार्या का पासपोर्ट जब्त करने की मांग कर रहे हैं। वहीं इस मामले में प्रधानाचार्या के कारखास रहे शीतला सहाय को घेरने की भी तैयारी चल रही है। दरअसल नगदी के सूरत में हुए पूरे गोरखधंधे में शीतला सहाय ही सक्रिय किरदार था। यहां तक कि जिन लोगों ने चेक द्वारा पैसा दिया, उन चेक को लेने से लेकर ब्याज की रकम पहुंचाने का काम भी शीतला सहाय करता था। ऐसे में तमाम पीड़ित शीतला सहाय की गिरफ्तारी भर से सारे मामले के सामने आने की दलीलें दे रहे हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll