Box Office Collection of Dhadak and Student of The Year

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

प्रदेश व देश के सबसे व्यापारिक संगठनों में शुमार उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल में त्रैवार्षिक चुनाव के लिए एक बार नूराकुश्ती शुरु हो गई। खास बात यह है कि लोकतांत्रिक व्यवस्था को पालन करने के नाम पर ही नामांकन हो रहे हैं और प्रत्याशी भी तय हो रहे हैं। कहने को अध्यक्ष पद पर बनवारी लाल कंछल के सामने हापुड़ के विजय अग्रवाल हैं तो दूसरे पदों महामंत्री व उपाध्यक्ष पर भी कई –कई प्रत्याशी हैं। अब देखने वाली बात यह है कि चुनाव कितने पदों पर होगा। होगा भी या नहीं।

 

वैसे पुराने इतिहास को देखें तो चुनाव महज खानापूरी भर होता है। व्यापारिक संगठनों में चुनाव की प्रक्रिया अपने आप में ही बेमिसाल है। यानी नामांकन के दौरान पर्चा भी दाखिल होता है और बाद में सहमति भी बन जाती है। बहुत जरूरत पड़ती है चुनाव होता है अन्यथा पूर्व से ही तय कार्यकारिणी अपना दायित्व संभाल लेती है। खास बात यह है कि शनिवार को शुरु हुई नामांकन प्रक्रिया में भी व्यापार मंडल के तमाम पदों के लिए नामांकन शुरु हुआ था और देर शाम तक मतपत्रों की जांच भी होती रहीं।

व्यापार मंडल के निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष बनवारी लाल कंछल ने बताया कि व्यापारियों के चुनाव पूरी तरह से लोकतांत्रिक प्रक्रिया का पालन करते हुए होते हैं। प्रदेश भर के संगठन से जुड़े व्यापारियों के लिए अपने वांछित पद पर नामांकन करने के लिए स्वतंत्र होते हैं और ऐसा होता भी है। बाद में सर्वसम्मति –सहमति से कोई फैसला हो जाता है तो नामांकन वापस हो जाते हैं और उसके बाद चुनाव निर्विरोध संपन्न हो जाते हैं। अन्यथा चुनाव कराया जाता है। उन्होंने बताया कि शनिवार को अध्यक्ष, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, मंत्री सहित अन्य तमाम पदों पर तय संख्या से ज्यादा लोगों ने नामांकन किया है। नामांकन पत्रों की जांच के बाद के बाद आगे निर्वाचन प्रक्रिया होगी। अगर सहमति बन जाती है तो चुनाव नहीं होंगे अन्यथा मतदान द्वारा पदाधिकारी चुने जाएंगे।

 

चुनाव तो बस बहाना है . .

प्रदेश के तमाम व्यापारिक संगठनों स्वयंभू अध्यक्ष ही देखने को मिलते रहे हैं। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल, अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल या फिर उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल। इनमें तमाम संगठन ऐसे हैं कि जिनके अध्यक्ष लंबे समय से काबिज हैं। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल में तो अध्यक्षी को लेकर दो फाड़ तक हो गए। नेताओं की लालसा ऐसी रही है कि एक धड़े की कमान पूर्व अध्यक्ष श्याम बिहारी मिश्र के पास हैं तो दसरे की कमान बनवारी लाल कंछल के पास। मामला अदालत में भी चल रहा हो लेकिन दोनों नेता अपने अपने संगठन चला रहे हैं।

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll