Home Rising At 8am Dispute Between IAS And IPS Association

चेन्नई: पत्रकारों ने बीजेपी कार्यालय के बाहर किया विरोध प्रदर्शन

मुंबई: ब्रीच कैंडी अस्पताल के पास एक दुकान में लगी आग

कर्नाटक के गृहमंत्री रामालिंगा रेड्डी ने किया नामांकन दाखिल

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने हथियारों के साथ 3 लोगों को किया गिरफ्तार

11.71 अंक गिरकर 34415 पर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी 10564 पर बंद

आमने-सामने आईं आइएएस और आइपीएस एसोसिएशन

Rising At 8am | 11-Dec-2017 | Posted by - Admin

 

  • एक शासनादेश के बाद मच गई उथल पुथल
   
Dispute Between IAS and IPS Association

दि राइजिंग न्‍यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

क्राइम मीटिंग की अध्यक्षता जिलाधिकारी द्वारा किए जाने के आदेश को लेकर आइपीएस और आइएएस एसोसिशएन एक बार फिर आमने सामने आ गए हैं। आइएएस एसोसिएशन इसे एक बेहतर कदम मान रही है तो आइपीएस एसोसिएशन इसे युवा पुलिस अधिकारियों को हतोत्साहित करने वाली कार्रवाई करार दे रही है। मुद्दे की संजीदगी इससे भी समझी जा सकती है कि मुख्य सचिव का आदेश जारी होने के बाद सोमवार को डीजीपी सुलखान सिंह ने इस पर आपत्ति जाहिर करते हुए सरकार को पत्र भी भेजा है। गृह सचिव अरविंद सिंह ने भी डीजीपी का पत्र मिलने की बात स्वीकार की और उस पर सरकार के विचार करने की बात कही है। अब इसमें हो भले ही कुछ लेकिन आइपीएस और आइएएस फिर आमने-सामने हैं।


 

नाम न छापने की शर्त पर पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि यह केवल नौकरशाहों द्वारा पुलिस अपने अधीन करने की प्लानिंग सरीखा है। इससे पुलिस अधिकारियों के अधिकार कम होंगे। दूसरी तरफ प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों का कहना है कि जिलाधिकारी जिले का नोडल अधिकारी होता है। ऐसे में अगर वह क्राइम की समीक्षा करेगा तो इससे स्थिति में सुधार ही होग। इसमें आपत्ति जैसी कोई बात नहीं होनी चाहिए। दरअससल, प्रदेश में पुलिस में कमिश्नरी लागू करने के प्रयास काफी वर्ष पूर्व हुए थे, लेकिन नौकरशाही ने उसे सफल नहीं होने दिया।

कारण यह है कि ऐसे में पुलिस कमिश्नर को कमिश्नर के बराबर मैजेटीरियल पावर मिल जाएगी। यानी कानून व्यवस्था या अमन शांति के लिए पुलिस अपने अधिकारी का उपयोग कर सकती है। दिल्ली, मुंबई, चेन्नई आदि कई राज्यों में यह व्यवस्था लागू है।

 

 

अधिकारों को लेकर टकराव

दरअसल पूरे विवाद की मूल जड़ अधिकार व प्रभाव है। फिलहाल पुलिस के मुकाबले डीएम के पास ज्यादा अधिकार हैं। हालांकि दोनों का कार्यक्षेत्र अलग है, इस कारण से टकराव नहीं होता है। अब अगर डीएम सीधे तौर पर पुलिस की समीक्षा करने लगेंगे तो पुलिस के मुकाबले उनके अधिकार में वृद्धि होगी। पुलिस अधिकारी भी डीएम के प्रति भी जवाबदेह हो जाएंगे। इस कारण से आइपीएस एसोसिएशन इस आदेश को सही नहीं मान रही है। वहीं आइएएस इस आदेश में कोई खराबी होने से ही इंकार कर रहे हैं।

 

 

आइपीएस एसोसिएशन का लगेगा जमावाड़ा

सरकार के नए आदेश के खिलाफ मंगलवार को आइपीएस एसोसिएशन ने अपनी बैठक आहूत की है। इस बैठक में सरकार के इस आदेश को लेकर विचार मंथन किया जाएगा। बैठक के बाद अगले कदम का निर्धारण भी किया जाएगा। इसके पूर्व प्रदेश के पुलिस प्रमुख ने सरकार को अपनी असहमति पहले ही जता दी है। ऐसे में आइपीएस और आइएएस एसोसिएशन के बीच यह टकराव फिलहाल बढ़ता ही दिखाई दे रहा है।

 

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555







TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news