Crowd Rucuks At Sapna Chaudhary Program in Begusaray of Bihar

दि राइजिंग न्यूज़

संजय़ शुक्ल

लखनऊ।

 

नक्शा न सुरक्षा इंतजाम फिर इंटरनेट पर जबरदस्त नाम। जी हां, आनलाइन होटल बुकिंग कराने वाली वेबसाइटों पर अवैध होटलों का धड़ल्ले से धंधा चल रहा है। कंप्यूटर पर सुसज्जित कमरे और सुविधाएं वह भी किफायती दामों पर वेबसाइटों पर दिखाई जा रही है। इसी के आर्कषण पर लोग इन होटलों में आकर रुक रहे हैं। खास बात यह है कि पूरा धंधा खुलेआम चल रहा है लेकिन किसी जिम्मेदार विभाग ने इसकी पड़ताल तक करने की कोशिश नहीं की। खास बात यह है कि कई होटल तो ऐसे हैं जिनके पास लाइसेंस तक नहीं हैं।

 

मंगलवार को चारबाग में दो होटलों में हुए भीषण अग्निकांड के बाद शुरु जांच में बुधवार को चारबाग क्षेत्र में पांच होटलों को मानक पूरे न होने के कारण सील कर दिया गया। मगर अभी दो सौ से ज्यादा होटल चल रहे हैं। खास बात यह है कि अग्निकांड में छह लोगों  की मौत के बाद शुरू हुई जांच यह बात भी सामने आ रही है कि तमाम होटल ऐसे भी हैं, जहां पर अग्नि सुरक्षा के माकूल इंतजाम न होने के बाद भी उन्हें एनओसी मिली है। कैसे मिली, इसका जवाब देने को कोई भी अधिकारी तैयार नहीं है।

होटलों में चल रहा है गोरखधंधा

चारबाग में अवैध होटल केवल पर्यटकों के ठहरने भर को नहीं है बल्कि इनकी आड़ में तमाम धंधे फलफूल रहे हैं। इलेक्ट्रानिक्स सामान से लेकर टैक्स चोरी के मोबाइल व दवाईयों के गोदाम तक इन होटलों के बेसमेंट या परिसर से संचालित हो रहे हैं। चारबाग स्टेशन के नजदीक होने के कारण पार्सल घर से निकलने वाला तमाम सामान सहजता से इन होटलों में पहुंच जाता है और उसके बाद उसे निर्धारित स्थान तक पहुंचवा दिया जाता है। स्टेशन नजदीक होने के कारण इसकी पकड़ धकड़ होने से पहले ही सारा माल गायब हो जाता है। इसके अलावा चारबाग के होटलों में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ भी कई बार हो चुका है। तमाम होटलों में यह धंधा लगातार चल रहा है और उसे न देखने की कीमत पुलिस वसूल रही है।

नोटिस हुई लेकिन होटल बनकर तैयार हो गया

चारबाग में करीब दो दर्जन होटल व कांप्लेक्स ऐसे हैं जिन्हें अवैध निर्माण बताकर लखनऊ विकास प्राधिकरण ने नोटिस जारी किया। दिखाने को कुछ दिन के लिए काम भी बंद हुआ लेकिन उसके बाद नोटिस के आगे की कार्रवाई हो नहीं पाई और होटल बनकर चलने भी लगें। बांस मंडी चौराहे से राणा प्रताप चौराहे के बीच ही इस तरह के करीब आधा दर्जन होटल हैं। इसी तरह से सुभाष मार्केट, पान दरीबा में भी कई होटल सीलिंग नोटिस के बाद पूरे हो गए। जांच के नाम पर होटलों को अवैध करार दे दिया जाएं लेकिन सवाल यह है कि इनके निर्माण के लिए जिम्मेदार अभियंताओं पर कोई कार्रवाई होगी।

पहले ही दिन पांच होटल सील

बच्ची सहित छह लोगों की मौत के बाद सिटी मजिस्ट्रेट विवेक श्रीवास्तव के नेतृत्व में पुलिस –प्रशासन ने बुधवार को चारबाग –नाका क्षेत्र में अभियान चलाकर होटलों की जांच की। प्रशासन, पुलिस, नगर निगम व लखनऊ  विकास प्राधिकरण की टीम ने छह होटलों की जांच की। इनमें दो होटलों मेघा तथा शक्ति लाज को सील कर दिया गया। बाकी चार होटलों में पर्यटकों के रुकने के कारण उन्हें कल तक होटल खाली करने का समय दिया गया है। अपर पुलिस अधीक्षक (पश्चिम) विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि जिन होटलों की जांच की गई उन सभी में अनियमितता मिली हैं। दो होटलों को सील किया गया है जबकि चार को नोटिस जारी कर दिया गया है। उन्हें कल सील कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि क्षेत्र के सभी होटलों की गहनता से जांच की जाएगी और मानकों के विपरीत पाए जाने होटल बंद कराए जाएंगे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement